--> भारतेन्दु हरिश्चन्द्र और हिंदी नवजागरण की समस्याएं | bhartendu Harishchandra - हिंदी सारंग
Home नवजागरण की समस्याएं / भारतेन्दु हरिश्चन्द्र / e books / ramvilash sharma

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र और हिंदी नवजागरण की समस्याएं | bhartendu Harishchandra

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र और हिंदी नवजागरण की समस्याएं 

(Bhartendu Harishchandra aur Hindi Navjagaran ki Samsyayen) नामक यह पुस्तक डॉ. रामविलास शर्मा (Ramvilash Sharma) की है, जिसमे लेखक ने भारतेंदु (Bhartendu) के माध्यम से उस दौड़ के नवजागरण का भी विश्लेषण किया है शर्मा जी का नवजागरण पर काफी रिसर्च है, भले ही आप उनसे सहमत न हो, लेकिन उनसे बच कर/ किनारे कर आगे नहीं जा सकतेइसलिए यह किताब काफी महत्वपूर्ण है लेखक ने इसी नाम से पहले भी पुस्तक लिखी है परन्तु यह पुस्तक केवल भारतेंदु के जीवन और उनके साहित्य को केंद्र में रख कर लिखी गई है शर्मा जी की प्रमुख स्थापना यह है की भारतेंदु हिंदी के जातीय परम्परा के संस्थापक हैं


Bhartendu-Harishchandra
भारतेन्दु हरिश्चन्द्र



भारतेन्दु हरिश्चन्द्र और हिंदी नवजागरण की समस्याएं-


पुस्तक का नाम

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र | Bhartendu Harishchandra

लेखक :
रामविलास शर्मा | Ramvilash Sharma
पुस्तक की साईज :
14.00 MB
कुल पृष्ठ :
176
श्रेणी :
आलोचना | Criticism
प्रकाशक
राजकमल प्रकाशन, दिल्ली
संस्करण
1984
ईबुक डाउनलोड करें :
पुस्तक का श्रोत :


लेखक की अन्य पुस्तकें- 

यह भी पढ़ें :

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

hindisarang.com पर आपका स्वागत है! जल्द से जल्द आपका जबाब देने की कोशिश रहेगी।

to Top