--> प्रगतिवाद से समकालीन कविता तक के काव्य से संबंधित अनुक्रम पर आधारित पूछे गए प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 5 - हिंदी सारंग
Home प्रश्नपत्र / यूजीसी नेट / hindi quiz / net / nta ugc / Question Paper

प्रगतिवाद से समकालीन कविता तक के काव्य से संबंधित अनुक्रम पर आधारित पूछे गए प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 5

यूजीसी नेट हिंदी old question paper

दोस्तों यूजीसी नेट जेआरएफ हिंदी की परीक्षाओं में अनुक्रम से संबंधित प्रश्नों का यह पाँचवा भाग है। यहाँ पर 2004 से लेकर 2019 तक के ugc net हिंदी के प्रश्नपत्रों में प्रगतिवाद से समकालीन कविता के काव्य से संबंधित पूछे गए प्रश्नों को एक साथ दिया जा रहा है ताकि आपको तैयार और अभ्यास करने में सहूलियत हो। इससे पहले काव्य ग्रंथो के अनुक्रम संबंधी भारतेंदु युग से लेकर छायावाद तक के प्रश्न हल कर चुके हैं।

ugc-net-hindi-old-question-paper-quiz-5
UGC NET Hindi Quiz- 5

इन प्रश्नों को हल करने के बाद आप पाएंगे कि nat ugc net hindi में प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नयी कविता और समकालीन कविता की कई रचनाओं को बार-बार सुमेलित करने के लिए दे दिया जाता है। इन प्रश्नों का दो-तीन बार यदि आप अभ्यास कर लेते हैं तो प्रगतिवाद, प्रयोगवाद, नयी कविता और समकालीन कविता से संबंधी सुमेलन आधारित प्रश्न गलत नहीं होंगे, ज्यादा संभावना यही है की इन्हीं प्रश्नों में से ही दुबारा पूछा जाए।

प्रगतिवाद से समकालीन कविता तक के अनुक्रम वाले प्रश्न

1. निम्नलिखित कविताओं का सही अनुक्रम क्या है? (दिसम्बर, 2006, II)

(A) मुक्ति-प्रसंग, संसद से सड़क तक, अपनी केवल धार, आवाज़ की भी जगह है

(B) संसद से सड़क तक, आवाज़ की भी जगह है, मुक्ति-प्रसंग, अपनी केवल धार ✅

(C) अपनी केवल धार, आवाज़ की भी जगह है, मुक्ति-प्रसंग, संसद से सड़क तक

(D) आवाज़ की भी जगह है, संसद से सड़क तक, मुक्ति-प्रसंग, अपनी केवल धार

अनुक्रम--

1, संसद से सड़क तक (सुदामा पांडेय ‘धूमिल’)- 1972 ई.

2. आवाज़ की भी जगह है-

3. मुक्ति-प्रसंग (राजकमल चौधरी)-

4. अपनी केवल धार (अरुण कमल)- 1980 ई.

 

2. निम्नलिखित कृतियों का सही अनुक्रम कौन-सा है? (जून, 2007, II)

(A) नए पत्ते, आंसू, ग्रंथि, ठंडा लोहा

(B) ठंडा लोहा, ग्रंथि, आंसू, नए पत्ते

(C) आंसू, ग्रंथि, नए पत्ते, ठंडा लोहा 

(D) नए पत्ते, ठंडा लोहा, ग्रंथि, आंसू

अनुक्रम-

1. ग्रंथि (सुमित्रानंदन पंत)- 1920 ई.

2. आँसू (जयशंकर प्रसाद)- 1925 ई.

3. नए पत्ते (निराला)- 1946 ई.

4. ठंडा लोहा (धर्मवीर भारती)- 1952 ई.

 

3. कालक्रम की दृष्टि से अज्ञेय के निम्नलिखित काव्य संग्रहों का सही अनुक्रम क्या है? (जून, 2008, II)

(A) कितनी नावों में कितनी बार, इत्यलम, सागर मुद्रा, हरी घास पर क्षणभर

(B) सागर मुद्रा, कितनी नावों में कितनी बार, हरी घास पर क्षणभर, इत्यलम

(C) हरी घास पर क्षणभर, कितनी नावों में कितनी बार, सागर मुद्रा, इत्यलम

(D) इत्यलम, हरी घास पर क्षणभर, कितनी नावों में कितनी बार, सागर मुद्रा 

अनुक्रम-

1. इत्यलम- 1946 ई.

2. हरी घास पर क्षण भर- 1949 ई.

3. कितनी नावों में कितनी बार- 1967 ई.

4. सागर मुद्रा- 1970 ई.

 

4. निम्नलिखित काव्य संग्रहों का काल क्रमानुसार सही अनुक्रम रेखांकित कीजिए: (जून 2009, II)

(A) भग्नदूत, मँजीर, चाँद का मुँह टेढ़ा है, साखी 

(B) मँजीर, चाँद का मुँह टेढ़ा है, साखी, भग्नदूत

(C) चाँद का मुँह टेढ़ा है, साखी, भग्नदूत, मँजीर

(D) साखी, चाँद का मुँह टेढ़ा है, मँजीर, भग्नदूत

अनुक्रम-

1. भग्नदूत (अज्ञेय)- 1933 ई.

2. मँजीर (गिरजा कुमार माथुर)- 1941 ई.

3. चाँद का मुँह टेढ़ा है (मुक्तिबोध)- 1964 ई.

4. साखी (विजयदेव नारायण साही)- 1983 ई.

 

5. रचनाकाल के आधार पर अज्ञेय की निम्नलिखित रचनाओं का सही अनुक्रम है: (जून, 2012, III)

(A) आँगन के पार द्वार, हरी घास पर क्षण भर, भग्नदूत, बावरा अहेरी

(B) भग्नदूत, हरी घास पर क्षण भर, बावरा अहेरी, आँगन के पार द्वार 

(C) हरी घास पर क्षण भर, भग्नदूत, बावरा अहेरी, आँगन के पार द्वार

(D) बावरा अहेरी, हरी घास पर क्षण भर, भग्नदूत, आँगन के पार द्वार

अनुक्रम-

1. भग्नदूत (अज्ञेय)- 1933 ई.

2. हरी घास पर क्षण भर- 1949 ई.

3. बावरा अहेरी 1954 ई.

4. आँगन के पार द्वार- 1961 ई.

 

6. रचनाकाल के अनुसार लंबी कविताओं का सही अनुक्रम लिखिए: (जून, 2010, II)

(A) असाध्य वीणा, पटकथा, कन्हार, प्रलय की छाया

(B) पटकथा, असाध्य वीणा, प्रलय की छाया, कन्हार

(C) प्रलय की छाया, असाध्य वीणा, पटकथा, कन्हार 

(D) कन्‍हार, असाध्य वीणा, पटकथा, प्रलय की छाया

अनुक्रम-

1. प्रलय की छाया (जयशंकर प्रसाद)- 1925 ई.

2. असाध्य वीणा (अज्ञेय)- 1961 ई.

3. पटकथा (सुदामा पाण्डेय धूमिल)- 1972 ई.

4. कन्हार-

 

7. रचनाकाल के अनुसार सही अनुक्रम लिखिए: (जून, 2011, II)

(A) इंद्रधनु रौंदे हुए थे, सीढ़ियों पर धूप, नए इलाके में, वाजश्रवा के बहाने 

(B) वाजश्रवा के बहाने, नए इलाके में, सीढ़ियों पर धूप, इंद्रधनु रौंदे हुए थे

(C) नए इलाके में, सीढ़ियों पर धूप, इंद्रधनु रौंदे हुए थे, वाजश्रवा के बहाने

(D) सीढ़ियों पर धूप, इंद्रधनु रौंदे हुए थे, वाजश्रवा के बहाने, नए इलाके में

अनुक्रम-

1. इंद्रधनु रौंदे हुए थे (अज्ञेय)- 1997 ई.

2. सीढ़ियों पर धूप (रघुवीर सहाय)- 1959 ई.

3. नए इलाके में (अरुण कमल)- 1996 ई.

4. वाजश्रवा के बहाने (कुँवर नारायण)- 2008 ई.

 

8. प्रकाशन की दृष्टि से निम्न काव्य कृतियों का सही क्रम क्‍या है? (जून, 2012, II)

(A) गीत फरोश, युगवाणी, हरी घास पर क्षण भर, कुकुरमुत्ता

(B) कुकुरमुत्ता, हरी घास पर क्षण भर, युगवाणी, गीत फरोश

(C) हरी घास पर क्षण भर, कुकुरमुत्ता, युगवाणी, गीत फरोश

(D) युगवाणी, कुकुरमुत्ता, हरी घास पर क्षण भर, गीत फरोश 

अनुक्रम-

1. युगवाणी (सुमित्रानन्दन पन्‍त)- 1939 ई.

2. कुकुरमुत्ता (निराला)- 1942 ई.

3. हरी घास पर क्षण भर (अज्ञेय)- 1949 ई.

4. गीत फरोश (भवानीप्रसाद मिश्र)- 1956 ई.

 

9. आधुनिक हिन्दी की निम्नलिखित कृतियों का प्रकाशन काल की दृष्टि से सही अनुक्रम क्‍या है? (दिसम्बर, 2012, II)

(A) आत्मजयी, कनुप्रिया, उर्वशी, यशोधरा

(B) कनुप्रिया, उर्वशी, आत्मजयी, यशोधरा

(C) उर्वशी, कनुप्रिया, यशोधरा, आत्मजयी

(D) यशोधरा, उर्वशी, कनुप्रिया, आत्मजयी 

अनुक्रम-

1. यशोधरा (मैथिलीशरण गुप्त)- 1932 ई.

2. कनुप्रिया (धर्मवीर भारती)- 1959 ई.

3. उर्वशी (रामधारी सिंह ‘दिनकर’)- 1961 ई.

4. आत्मजयी (कुँवर नारायण)- 1965 ई.

 

10. रचनाकाल की दृष्टि से निम्नलिखित कृतियों का सही अनुक्रम है: (जून, 2012, III)

(A) सतरंगे पंखों वाली, युग को गंगा, फूल नहीं रंग बोलते हैं, मिट्टी की बारात

(B) युग की गंगा, सतरंगे पंखों वाली, फूल नहीं रंग बोलते हैं, मिट्टी की बारात 

(C) मिट्टी की बारात, युग की गंगा, सतरंगे पंखों वाली, फूल नहीं रंग बोलते हैं

(D) फूल नहीं रंग बोलते हैं, युग की गंगा, मिट्टी को बारात, सतरंगे पंखो वाली

अनुक्रम-

1. युग की गंगा (केदारनाथ अग्रवाल)- 1947 ई.

2. सतरंगे पंखों वाली (नागार्जुन)- 1959 ई.

3. फूल नहीं रंग बोलते हैं (केदारनाथ अग्रवाल)- 1947 ई.

4. मिट्टी की बारात (शिवमंगल सिंह सुमन)- 1962 ई.

 

11. प्रकाशन वर्ष की दृष्टि से निम्नलिखित काव्य-कृतियों का सही अनुक्रम है: (दिसम्बर, 2019, II)

(A) विष्णुप्रिया, कुकुरमुत्ता, चांद का मुंह टेढ़ा है, आंगन के पार द्वार

(B) कुकुरमुत्ता, विष्णुप्रिया, आंगन के पार द्वार, चांद का मुंह टेढ़ा है 

(C) आंगन के पार द्वार, चांद का मुंह टेढ़ा है, विष्णुप्रिया, कुकुरमुत्ता

(D) चांद का मुंह टेढ़ा है, विष्णुप्रिया, कुकुरमुत्ता, आंगन के पार द्वार

अनुक्रम-

1. कुकुरमुत्ता (निराला)- 1942 ई.

2. विष्णुप्रिया (मैथिलीशरण गुप्त)- 1957 ई.

3. आंगन के पार द्वार (अज्ञेय)- 1961 ई.

4. चांद का मुंह टेढ़ा है (मुक्तिबोध)- 1964 ई.

 

12. रचनाकाल की दृष्टि से निम्नलिखित कृतियों का सही अनुक्रम है: (जून, 2012, III)

(A) सतरंगे पंखों वाली, युग को गंगा, फूल नहीं रंग बोलते हैं, मिट्टी की बारात

(B) युग की गंगा, सतरंगे पंखों वाली, फूल नहीं रंग बोलते हैं, मिट्टी की बारात 

(C) मिट्टी की बारात, युग की गंगा, सतरंगे पंखों वाली, फूल नहीं रंग बोलते हैं

(D) फूल नहीं रंग बोलते हैं, युग की गंगा, मिट्टी को बारात, सतरंगे पंखो वाली

अनुक्रम-

1. युग की गंगा (केदारनाथ अग्रवाल)- 1947 ई.

2. सतरंगे पंखों वाली (नागार्जुन)- 1959 ई.

3. फूल नहीं रंग बोलते हैं (केदारनाथ अग्रवाल)- 1965 ई.

4. मिट्टी की बारात (शिवमंगल सिंह सुमन)- 1972 ई.

 

13. रचनाकाल की दृष्टि से निम्नलिखित कविताओं का सही अनुक्रम बताइए: (जून, 2012, III)

(A) अंधेरे में, असाध्यवीणा, सरोज-स्मृति, पटकथा

(B) असाध्यवीणा, सरोज-स्मृति, पटकथा, अंधेरे में

(C) सरोज-स्मृति, असाध्यवीणा, अंधेरे में, पटकथा 

(D) पटकथा, सरोज-स्मृति, असाध्यवीणा, अंधेरे में

अनुक्रम-

1. सरोज-स्मृति (निराला)- 1935 ई.

2. असाध्यवीणा (अज्ञेय)- 1961 ई.

3. अंधेरे में (मुक्तिबोध)- 1964 ई.

4. पटकथा (धूमिल)- 1972 ई.

 

14. रचनाकाल के आधार पर निम्नलिखित कृतियों का सही अनुक्रम है: (दिसम्बर, 2012, III)

(A) साकेत, कामायनी, कुरुक्षेत्र, अंधायुग 

(B) कामायनी, कुरुक्षेत्र, साकेत, अंधायुग

(C) साकेत, कुरुक्षेत्र, अंधायुग, कामायनी

(D) अंधायुग, कुरुक्षेत्र, साकेत, कामायनी

अनुक्रम-

1. साकेत (मैथिलीशरण गुप्त)- 1931 ई.

2. कामायनी (जयशंकर प्रसाद)- 1935 ई.

3. कुरुक्षेत्र (रामधारी सिंह ‘दिनकर’)- 1946 ई.

4. अंधायुग (धर्मवीर भारती)- 1955 ई.

 

15. रघुवीर सहाय की कृतियों का प्रकाशन वर्ष के अनुसार सही अनुक्रम है: (जून, 2014, III)

(A) आत्महत्या के विरुद्ध, हँसो-हँसो जल्दी हँसो, लोग भूल गए हैं, कुछ पते कुछ चिट्ठियाँ 

(B) हँसो-हँसो जल्दी हँसो, कुछ पते कुछ चिट्ठियाँ, लोग भूल गए हैं, आत्महत्या के विरुद्ध

(C) लोग भूल गए हैं, आत्महत्या के विरुद्ध, हँसो-हँसो जल्दी हँसो, कुछ पते कुछ चिट्ठियाँ

(D) कुछ पते कुछ चिट्ठियाँ, लोग भूल गए हैं, हँसो-हँसो जल्दी हँसो, आत्महत्या के विरुद्ध

अनुक्रम-

1. आत्महत्या के विरुद्ध- 1967 ई.

2. हँसो-हँसो जल्दी हँसो- 1975 ई.

3. लोग भूल गए हैं- 1982 ई.

4. कुछ पते कुछ चिट्ठियाँ- 1989 ई.

 

16. प्रकाशन-वर्ष के अनुसार निम्नलिखित रचनाओं का सही अनुक्रम है: (जून, 2015, III)

(A) रश्मिरथी, कनुप्रिया, लोकायतन, आत्मजयी 

(B) लोकायतन, रश्मिरथी, कनुप्रिया, आत्मजयी

(C) लोकायतन, कनुप्रिया, रश्मिरथी, आत्मजयी

(D) कनुप्रिया, लोकायतन, रश्मिरथी, आत्मजयी

अनुक्रम-

1. रश्मिरथी (दिनकर)- 1952 ई.

2. कनुप्रिया (धर्मवीर भारती)- 1959 ई.

3. लोकायतन (सुमित्रानंदन पंत)- 1964 ई.

4. आत्मजयी (कुँवर नारायण)- 1965 ई.

 

17. प्रकाशन वर्ष की दृष्टि से निम्नलिखित काव्य-संग्रहों का सही अनुक्रम है: (जून, 2016, II)

(A) जमीन पक रही है, अभी बिल्कुल अभी, बाघ, उत्तर कबीर और अन्य कविताएं

(B) बाघ, जमीन पक रही है, उत्तर कबीर और अन्य कविताएं, अभी बिल्कुल अभी

(C) अभी बिल्कुल अभी, जमीन पक रही है, उत्तर कबीर और अन्य कविताएं, बाघ 

(D) जमीन पक रही है, बाघ, अभी बिल्कुल अभी, उत्तर कबीर और अन्य कविताएं

केदारनाथ सिंह के काव्य-संग्रहों का अनुक्रम-

1. अभी बिल्कुल अभी- 1960 ई.

2. जमीन पक रही है- 1980

3. उत्तर कबीर और अन्य कविताएं- 1995 ई.

4. बाघ-

 

18. प्रकाशन वर्ष की दृष्टि से निम्नलिखित काव्य कृतियों का सही अनुक्रम है: (दिसम्बर, 2016, III)

(A) ठंडा लोहा, आत्महत्या के विरुद्ध, संसद से सड़क तक, उदिता 

(B) आत्महत्या के विरुद्ध, संसद से सड़क तक, उदिता, ठंडा लोहा

(C) संसद से सड़क तक, उदिता, ठंडा लोहा, आत्महत्या के विरुद्ध

(D) उदिता, ठंडा लोहा, आत्महत्या के विरुद्ध, संसद से सड़क तक

अनुक्रम-

1. ठंडा लोहा (धर्मवीर भारती)- 1952 ई.

2. आत्महत्या के विरुद्ध (रघुवीर सहाय)- 1967 ई.

3. संसद से सड़क तक (धूमिल)- 1972 ई.

4. उदिता: अभिव्यक्ति का संघर्ष (शमशेरबहादुर सिंह)-1980 ई.

 

19. प्रकाशन वर्ष के अनुसार निम्नलिखित रचनाओं का सही अनुक्रम है: (जून, 2017, III)

(A) रश्मिरथी, कनुप्रिया, द्रौपदी, संशय की एक रात

(B) कनुप्रिया, रश्मिरथी, द्रौपदी, संशय की एक रात

(C) रश्मिरथी, कनुप्रिया, संशय की एक रात, द्रौपदी 

(D) कनुप्रिया, द्रोपदी, रश्मिरथी, संशय की एक रात

अनुक्रम-

1. रश्मिरथी (रामधारी सिंह दिनकर)- 1952

2. कनुप्रिया (धर्मवीर भारती)- 1959 ई.

3. संशय की एक रात (नरेश मेहता)- 1962 ई.

4. द्रौपदी (सुरेंद्र वर्मा)- 1972 ई.

 

20. प्रकाशन वर्ष के अनुसार निम्नलिखित प्रबंधकाव्यों का सही अनुक्रम है: (जून, 2017, III)

(A) उर्वशी, विष्णुप्रिया, आत्मजयी, लोकायतन

(B) आत्मजयी, उर्वशी, लोकायतन, विष्णुप्रिया

(C) विष्णुप्रिया, उर्वशी, लोकायतन, आत्मजयी 

(D) लोकायतन, उर्वशी, आत्मजयी, विष्णुप्रिया

अनुक्रम-

1. विष्णुप्रिया (मैथिलीशरण गुप्त)- 1957 ई.

2. उर्वशी (रामधारी सिंह ‘दिनकर’)- 1961 ई.

3. लोकायतन (सुमित्रानंदन पंत)- 1964 ई.

4. आत्मजयी (कुँवर नारायण)- 1965 ई.

 

21. प्रकाशन वर्ष के अनुसार अज्ञेय की निम्नलिखित रचनाओं का सही अनुक्रम है: (नवम्बर, 2017, III)

(A) इत्यलम, आंगन के पार द्वार, हरी घास पर क्षण भर, कितनी नावों में कितनी बार

(B) हरी घास पर क्षण भर, इत्यलम, आंगन के पार द्वार, कितनी नावों में कितनी बार

(C) इत्यलम, हरी घास पर क्षण भर, आंगन के पार द्वार, कितनी नावों में कितनी बार 

(D) हरी घास पर क्षण भर, आंगन के पार द्वार, कितनी नावों में कितनी बार, इत्यलम

अनुक्रम-

1. इत्यलम- 1946 ई.

2. हरी घास पर क्षण भर- 1949 ई.

3. आंगन के पार द्वार- 1961 ई.

4. कितनी नावों में कितनी बार- 1967 ई.

 

22. प्रकाशन वर्ष के अनुसार निम्नलिखित कविताओं का सही अनुक्रम है: (जून, 2018, II)

(A) मधुबाला, प्रलय की छाया, पटकथा, असाध्य वीणा

(B) पटकथा, असाध्य वीणा, मधुबाला, प्रलय की छाया

(C) प्रलय की छाया, मधुबाला, असाध्य वीणा, पटकथा 

(D) प्रलय की छाया, पटकथा, मधुबाला, असाध्य वीणा

रचनाओं का क्रम इस प्रकार है-

1. प्रलय की छाया (जयशंकर प्रसाद)- 1925 ई.

2. मधुबाला (हरिवंशराय बच्चन)- 1936 ई.

3. असाध्य वीणा (अज्ञेय)- 1961 ई.

4. पटकथा (सुदामा पाण्डेय धूमिल)- 1972 ई.

Quiz 1234, 5, 67891011121314151617181920212223242526, 27282930313233343536373839404142434445464748495051525354555657585960616263646566676869707172737475767778798081

यह भी पढ़ें :

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

hindisarang.com पर आपका स्वागत है! जल्द से जल्द आपका जबाब देने की कोशिश रहेगी।

to Top