--> NTA UGC NET द्वारा कवि और कविता से संबंधित सुमेलन पर आधारित पूछे गए प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 23 - हिंदी सारंग
Home प्रश्नपत्र / यूजीसी नेट / hindi quiz / net / nta ugc / Question Paper

NTA UGC NET द्वारा कवि और कविता से संबंधित सुमेलन पर आधारित पूछे गए प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 23

यूजीसी नेट हिंदी old question paper

दोस्तों यहाँ पर यूजीसी नेट जेआरएफ हिंदी की परीक्षा के सुमेलित करने वाले प्रश्नों को दिया जा रहा है। हिंदी क्विज का यह 23वां भाग है। यहाँ पर 2004 से लेकर 2019 तक के ugc net हिंदी के प्रश्नपत्रों में कवि और कविता के सुमेलन संबंधित पूछे गए प्रश्नों को एक साथ दिया जा रहा है। ठीक उसी तरह जैसे आदिकाल, भक्तिकाल, रीतिकाल और आधुनिक काल के सुमेलित वाले प्रश्न दिए गए हैं।

ugc-net-hindi-old-question-paper-quiz-23
UGC NET Hindi Quiz- 23

इन प्रश्नों को हल करने के बाद आप पाएंगे कि nat ugc net hindi में आदिकाल से आधुनिक काल की कई कवि और कविताओं को बार-बार सुमेलित करने के लिए दे दिया जाता है। इन प्रश्नों का दो-तीन बार यदि आप अभ्यास कर लेते हैं तो कविता से संबंधी सुमेलन आधारित प्रश्न गलत नहीं होंगे, ज्यादा संभावना यही है की इन्हीं प्रश्नों में से ही दुबारा पूछ लिया जाए। ugc के अलावा अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं- uphesc, rpsc, hpsc, dsssb, tgt, pgt आदि परीक्षाओं के प्रतियोगियों के लिए भी ये प्रश्न काफी महत्वपूर्ण हैं।

यूजीसी नेट द्वारा 2004 से अब तक पूछे गए प्रश्न

1. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके रचयिताओं से सुमेलित कीजिए: (जून, 2018, II)

सूची- I

सूची- II

(a) नगर बाहिरे डोंबी तोहरि कुड़िया छाइ

(i) लूहिपा

(b) काआ तरुवर पंच बिड़ाल

(ii) कण्हपा

(c) कड़वा बोल न बोलिस नारि

(iii) खुसरो

(d) मोरा जोबना नवेलरा भयो है गुलाल

(iv) नरपति नाल्‍ह

 

(v) सरहपा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(i)

(iv)

(iii)

(B)

(i)

(ii)

(iii)

(v)

(C)

(iv)

(iii)

(ii)

(i)

(D)

(iii)

(ii)

(v)

(iv)

उत्तर- (A)

2. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2019, II)

सूची- I

(काव्य पंक्तियाँ)

सूची- II

(रचनाकार)

(a) पंडिअ सअल सत्त बक्खाणई।

देहहि बुद्ध बसंत ण जाणअ।।

(i) कण्हपा

(b) बाहर बरिस लै कूकर जीएँ

औ तेरह लै जिएं सिया

(ii) सरहपा

(c) बडः कौसल तुअ राधे किनल

कन्हाई लोचन आधे।।

(iii) जगनिक

(d) जाति औछा पाती ओछा ओछा जनमु हमारा

(iv) विद्यापति

 

(v) रैदास

निम्नलिखित में से सही विकल्प चुनिए:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(iii)

(iv)

(v)

(B)

(i)

(ii)

(v)

(iii)

(C)

(iii)

(i)

(v)

(ii)

(D)

(i)

(v)

(iii)

(iv)

उत्तर- (A)

3. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों और कवियों को सुमेलित कीजिए। (दिसम्बर, 2004, II)

सूची- I

सूची- II

(a) नैया बिच नदिया डूबति जाय

(i) रहीम

(b) अजगर करे न चाकरी पंछी करे न काम

(ii) कबीर

(c) गुरू सुआ जेहइ पंथ देखावा

(iii) खुसरो

(d) तबलग ही जीबो भलो देबौ होय न धीम

(iv) जायसी

 

(v) मलूकदास

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v)

(i)

(ii)

(iii)

(B)

(ii)

(v)

(iv)

(i)

(C)

(ii)

(iii)

(v)

(i)

(D)

(ii)

(i)

(v)

(iv)

उत्तर- (B)

4. सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2005, II)

सूची- I

सूची- II

(a) बसो मोरे नैनन में नंदलाल

(i) नानक देव

(b) प्रभुजी मोरे अवगुन चित्त न धरो

(ii) कबीर

(c) अब लौ नसानी अब न नसे हों

(iii) सूरदास

(d) अव्वल अल्लह नूर उपाया कुदरत के सब बन्दे

(iv) तुलसीदास

 

(v) मीराबाई

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v)

(iii)

(iv)

(ii)

(B)

(iv)

(ii)

(iii)

(i)

(C)

(iii)

(iv)

(v)

(i)

(D)

(ii)

(iii)

(iv)

(v)

उत्तर- (A)

5. इनमें से कौन सा उद्धरण रचना और रचनाकार के संबंध से संगत हैं? (दिसम्बर, 2005, II)

सूची- I

सूची- II

(a) संत हृदय नवनीत समाना

(i) रसलीन

(b) काहे री नलिनी तू कुम्हिलानी

(ii) बिहारी

(c) अमिय हलाहल मद भरे

(iii) तुलसीदास

(d) मेरी भवबाधा हरो

(iv) कबीर

 

(v) सूरदास

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iii)

(iv)

(i)

(ii)

(B)

(iv)

(ii)

(i)

(v)

(C)

(v)

(iii)

(ii)

(iv)

(D)

(i)

(iv)

(v)

(iii)

उत्तर- (A)

6. निम्नलिखित पंक्तियों के साथ उनके कवियों के नाम सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2008, II)

सूची- I

सूची- II

(a) जात पांत पूछे नहिं कोई

(i) तुलसीदास

(b) गिरा अनयन नयन बिनु बानी

(ii) परमानंददास

(c) प्रेम प्रेम ते होय प्रेम ते पारहिं पइए

(iii) जायसी

(d) मानुष प्रेम भयो बैकुंठी

(iv) रामानंद

 

(v) सूरदास

 कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v)

(ii)

(iii)

(iv)

(B)

(ii)

(iv)

(i)

(v)

(C)

(iv)

(i)

(v)

(iii)

(D)

(i)

(iii)

(ii)

(v)

उत्तर- (C)

7. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके रचनाकारों से सुमेलित कीजिए: (जून, 2018, II)

सूची- I

सूची- II

(a) ओनई घटा, परी जग छाहाँ

(i) सूरदास

(b) आवत जात पनहियाँ टूटी

(ii) कुंभनदास

(c) अति मलीन वृषभानु कुमारी

(iii) तुलसीदास

(d) कोरति भनिति भूतिभल सोई

(iv) जायसी

 

(v) कबीरदास

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(iii)

(iv)

(v)

(B)

(i)

(v)

(iii)

(iv)

(C)

(ii)

(v)

(iv)

(iii)

(D)

(iv)

(ii)

(i)

(iii)

उत्तर- (D)

8. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों और कवियों को सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2009, II)

सूची- I

सूची- II

(a) अति सूधौ सनेह कौ मारग है

(i) तुलसीदास

(b) अब लौं नसानी अब न नसैहों

(ii) सूरदास

(c) सटपटाति-सी ससि मुखी मुख घूँघट पर ढाँकि

(iii) बिहारी

(d) ऊधौ मन न भए दस-बीस

(iv) घनानंद

 

(v) मीराबाई

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(v)

(iv)

(B)

(iv)

(i)

(iii)

(ii)

(C)

(v)

(iii)

(i)

(ii)

(D)

(i)

(iv)

(ii)

(v)

उत्तर- (B)

9. पंक्तियों के साथ कवियों का सुमेलन कीजिए: (जून, 2010, II)

सूची- I

सूची- II

(a) सेस महेस गनेस दिनेस

(i) सूरदास

(b) मन लेत पै देत छटाँक नहीं

(ii) तुलसीदास

(c) जैसे उंड़ि जहाज को पंछी

(iii) घनानंद

(d) गिरा अनयन नयन बिनु बानी

(iv) रसखान

 

(v) केशवदास

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(v)

(iii)

(B)

(iv)

(iii)

(i)

(ii)

(C)

(iv)

(v)

(ii)

(i)

(D)

(iii)

(iv)

(i)

(v)

उत्तर- (B)

10. निम्नलिखित पंक्तियों के साथ उनके कवियों का नाम सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2010, II)

सूची- I

सूची- II

(a) साई के सब जीव हैं

कीरी कुंजर दोय

(i) विद्यापति

(b) देसिल बयना सबजन मिट्ठा

(ii) कबीर

(c) भूषन बिनु न बिराजई,

कविता बनिता मित्त

(iii) पद्माकर

(d) नैन नचाय कही मुसकाय,

लला फिर आइयो खेलन होरी

(iv) केशव

 

(v) बिहारी

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(iv)

(iii)

(ii)

(B)

(v)

(ii)

(iii)

(iv)

(C)

(i)

(ii)

(v)

(iv)

(D)

(ii)

(i)

(iv)

(iii)

उत्तर- (D)

11. निम्नलिखित उक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2011, II)

सूची- I

सूची- II

(a) गोरख जगायो जोग, भगति भगायो लोग

(i) घनानंद

(b) अनबूड़े बूड़े तिरे, जे बूडे सब अंग

(ii) मीराबाई

(c) अति सूधो सनेह को मारग है

(iii) सूरदास

(d) बसो मेरे नैनन में नंद लाल

(iv) बिहारी

 

(v) तुलसी

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(v)

(i)

(ii)

(B)

(v)

(iv)

(i)

(ii)

(C)

(ii)

(iv)

(v)

(i)

(D)

(i)

(iv)

(ii)

(v)

उत्तर- (B)

12. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2013, II)

सूची- I

सूची- II

(a) केशव कहि न जाइ का कहिए

(i) सूर

(b) अविगत गति कछु कहत न आवै

(ii) कबीर

(c) राम भगति अनियारे तीर

(iii) जायसी

(d) जोरी लाइ रकत कै लेई

(iv) तुलसी

 

(v) मीरा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(B)

(iv)

(v)

(iii)

(ii)

(C)

(iv)

(i)

(ii)

(iii)

(D)

(ii)

(iii)

(i)

(v)

उत्तर- (C)

13. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके कवियों से सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2016, III)

सूची- I

सूची- II

(a) जाके कुटुंब सब ढोर ढोवंत

फिरहिं अजहूं बानारसी आसपासा

(i) जायसी

(b) जेई मुख देखा तेइ हँसा

सुना ते आयउ आँसु

(ii) सूरदास

(c) हरि हैं राजनीति पढ़ि आए समुझी बात

कहत मधुकर जो समाचार कछु पाए।

(iii) रैदास

(d) संतन को कहा सीकरी सो काम

(iv) नंददास

 

(v) कुंभनदास

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(v)

(i)

(ii)

(B)

(ii)

(iii)

(v)

(i)

(C)

(iii)

(i)

(ii)

(v)

(D)

(i)

(ii)

(iv)

(iii)

उत्तर- (C)

14. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2017, II)

सूची-1

सूची-2

(a) हौ सब कबिन्ह केर पछिलगा    

(i) कबीरदास

(b) कबित्त बिवेक एक नहिं मोरे     

(ii) जायसी

(c) प्रभुजी, हौं पतितन कौ टीको    

(iii) मलूकदास

(d) अब तो अजपा जपु मन मेरे      

(iv) तुलसीदास

 

(v) सूरदास

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)   

(iv)  

(v)  

(iii)

(B)

(iv)

 (i)   

(ii)  

(v)

(C)

(iii)  

(ii)   

(iv)  

(i)

(D)

(i)   

(iv)  

(v)

(ii)

उत्तर- (A)

15. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2017, III)

सूची- I

सूची- II

(a) जेहि पंखी के नियर होइ, करै बिरह कै बात।

सोई पंखी जाइ जरि, तरिवर होइ निपात।।

(i) तुलसीदास

(b) हमको सपनेहू में सोच।

जा दिन तें बिछुरे नंदनंदन ता दिन ते यह पोच।

(ii) नंददास

(c) अब जीवन की है कपि आस न कोय।

कनगुरिया की मुदरी कंगना होय।।

(iii) सूरदास

(d) जिभिया ऐसी बावरी कहि गई सरग-पताल।

आपुहिं कहि भीतर रही, जूती खात कपाल।।

(iv) जायसी

 

(v) रहीम

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(iii)

(i)

(v)

(B)

(v)

(iv)

(ii)

(i)

(C)

(iii)

(v)

(iv)

(ii)

(D)

(ii)

(i)

(iii)

(iv)

उत्तर- (A)

16. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके रचयिताओं के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर 2018, II)

सूची- I

सूची- II

(a) जाके मुँह माथा नहीं रूप-कुरूप

(i) मलिक मुहम्मद जायसी

(b) औ मन जानि कबित

अस कीन्हा मकु यह

रहै जगत महँ चीन्हा

(ii) सूरदास

(c) हरि हैं राजनीति पढ़ि आए

(iii) कबीर

(d) नमामीशमीशान निर्वाण रूपं।

विभुं व्यापकं ब्रह्म वेदस्वरूपं।

(iv) रामानंद

 

(v) तुलसीदास

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(B)

(ii)

(iii)

(iv)

(v)

(C)

(iv)

(v)

(ii)

(i)

(D)

(iii)

(i)

(ii)

(v)

उत्तर: (D)

17. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके छंदों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2013, III)

सूची- I

सूची- II

(a) जब मैं था तब हरि नहीं,

अब हरि हैं मैं नाहिं।

(i) सवैया

(b) राम को रूप निहारत जानकी,

कंकन के नग की परिछाहीं।

(ii) कवित्त

(c) जानत है वह सिरजन हारा

जो कछु है मन मरम हमारा।

(iii) रूपमाला

(d) अधर लगे हैं आनि करिकै प्रयान-प्रान

चाहत चलन ये सँदेसो लै सुजान को।

(iv) दोहा

 

(v) चौपाई (अर्द्वाली)

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(iv)

(i)

(iii)

(B)

(v)

(iii)

(ii)

(i)

(C)

(iv)

(ii)

(iii)

(v)

(d)

(iv)

(i)

(v)

(ii)

उत्तर-

18. निम्नलिखित पंक्तियों और कवियों का सुमेलन कीजिए। (दिसम्बर, 2006, II)

सूची- I

सूची- II

(a) कनक कदलि पर सिंह समारल ता पर मेरु समाने

(i) घनानंद

(b) नैन नचाय कही मुसकाय, लला फिर आइयो खेलन होरी

(ii) रसखान

(c) अति सूधो सनेह को मारग है

(iii) विद्यापति

(d) मोर पखा सिर ऊपर राखि हों,

गुंज की माल गले पहिरौगी

(iv) मतिराम

 

(v) पदमाकर

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(iii)

(i)

(iv)

(B)

(iii)

(v)

(i)

(ii)

(C)

(v)

(ii)

(i)

(iii)

(D)

(iv)

(iii)

(ii)

(v)

उत्तर- (B)

19. इन काव्य पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2007, II)

सूची- I

सूची- II

(a) अति सूधो सनेह को मारग है

(i) पद्माकर

(b) साजि चतुरंग वीर रंग में तुरंग चढ़ि

(ii) भिखारी दास

(c) गुलगुली गिल में गलीचा है गुनीजन हैं

(iii) भूषण

(d) आगे के कवि रीझिहै तो कविताई न तो

सधिका कन्हाई सुमिरन कौं बहानौ है

(iv) बोधा

 

(v) घनानंद

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(i)

(iii)

(v)

(B)

(v)

(iii)

(iv)

(i)

(C)

(ii)

(v)

(i)

(iii)

(D)

(v)

(iii)

(i)

(ii)

उत्तर- (D)

20. निम्नलिखित पंक्तियों के साथ कवियों का सुमेलन कीजिए: (जून, 2012, II)

सूची- I

सूची- II

(a) ज्यों ज्यों निहारिये नेरे ह्वौ नैननि

(i) पद्माकर

(b) ऊँचे घोर मन्दर के अन्दर रहनवारी

(ii) घनानंद

(c) नैन नचाइ कह्वौ मुसकाइ

(iii) मतिराम

(d) रावरे रूप की रीति अनूप

(iv) भूषण

 

(v) ठाकुर

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iii)

(iv)

(i)

(ii)

(B)

(ii)

(iii)

(iv)

(v)

(C)

(v)

(ii)

(i)

(iii)

(D)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

उत्तर- (A)

21. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2016, III)

सूची- I

सूची- II

(a) कौन परी यह बानि, अरी।

नित नीर भरी गगरी ढरकावै।।

(i) द्विजदेव

(b) यह प्रेम को पंथ कराल महा।

तरवारि की धार पै धावनौ है।

(ii) प्रताप साहि

(c) चोजिन के चोजी, मौजिन के महाराज

हम कविराज हैं, पैचाकर चतुर के

(iii) बोधा

(d) चांदनी के भारन दिखात उनयो सो चंद,

गंध ही के भारन बहत मंद मंद पौन।।

(iv) पजनेस

 

(v) ठाकुर

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(iii)

(v)

(i)

(B)

(i)

(v)

(iii)

(ii)

(C)

(iii)

(iv)

(ii)

(i)

(D)

(v)

(ii)

(i)

(iii)

उत्तर- (A)

22. निम्नलिखित काव्यपंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2019, II)

सूची- I

(काव्यपंक्तियाँ)

सूची- II

(रचनाकार)

(a) कौन परी यह बानि अरी नित

नीरभरी गगरी ढरकावै।

(i) देव

(b) गुलगुली गिल मैं गलीचा हैं

गुनी जन हैं चाँदनी है चिक हैं

चिरागन की माला हैं।

(ii) पद्माकर

(c) सेवर सिपाही हम उन रजपूतन

के दान जूद्ध जुरिबे में नेकु जे न मुरके।

(iii) ठाकुर

(d) अभिधा उत्तम काव्य है, मध्य लक्षणा लीन।

अधम व्यंजना रस विरस, उलटी कहत नवीन।

(iv) प्रताप साहि

 

(v) भिखारीदास

निम्नलिखित में से सही विकल्प चुनिए:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(B)

(iv)

(ii)

(iii)

(i)

(C)

(v)

(i)

(iv)

(iii)

(D)

(iii)

(iv)

(i)

(v)

उत्तर- (B)

23. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2016, II)

सूची- I

सूची- II

(a) पराधीन रहकर अपना सुख शोक न कह सकता है।

वह अपमान जगत में केवल पशु ही सह सकता है।

(i) मैथिलीशरण गुप्त

(b) धरती हिल कर नींद भगा दे।

वज्रनाद से व्योम जगा दे।

दैव, और कुछ लाग लगा दे।

(ii) जगन्नाथदास रत्नाकार

(c) दिवस का अवसान समीप था

गगन था कुछ लोहित हो चला।

(iii) नाथूराम शर्मा ‘शंकर

(d) भेजे मनभावन के ऊधव के आवन की,

सुधि ब्रज-गाँवनि मैं पावन जबै लगीं।

(iv) रामनरेश त्रिपाठी

 

(v) अयोध्यासिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(i)

(v)

(ii)

(B)

(i)

(iii)

(ii)

(iv)

(C)

(v)

(i)

(iii)

(ii)

(D)

(ii)

(v)

(iv)

(iii)

उत्तर-  (A)

24. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2006, II)

सूची- I

सूची- II

(a) दोनों ओर प्रेम पलता है

(i) प्रसाद

(b) धिक्‌ जीवन जो पाता ही आया विरोध

(ii) तुलसीदास

(c) परहित सरिस धर्म नहीं भाई

(iii) निराला

(d) बीन भी हूँ मैं तुम्हारी रागिनी भी हूँ

(iv) मैथिलीशरण गुप्त

 

(v) महादेवी

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(i)

(v)

(iv)

(B)

(v)

(ii)

(i)

(iv)

(C)

(iv)

(iii)

(ii)

(v)

(D)

(iii)

(ii)

(iv)

(i)

उत्तर- (C)

25. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को कवियों से सुमेलित कीजिए। (दिसम्बर, 2006, II)

सूची- I

सूची- II

(a) स्नेह निर्झर बह गया है

(i) प्रसाद

(b) ओ! वरुणा की शांत कछार

(ii) हरिऔध

(c) सखि! वे मुझसे कहकर जाते

(iii) निराला

(d) दिवस का अवसान समीप था

(iv) मैथिली शरण गुप्त

 

(v) महादेवी वर्मा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(v)

(iii)

(B)

(iv)

(i)

(iii)

(ii)

(C)

(ii)

(iii)

(v)

(i)

(D)

(iii)

(i)

(iv)

(ii)

उत्तर- (D)

26. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए; (दिसम्बर, 2007, II)

सूची- I

सूची- II

(a) सजनि मधुर निजत्व दे कैसे मिलूं अभिमानिनी मैं

(i) जयशंकर प्रसाद

(b) प्रिय के हाथ लगाए जागी, ऐसी मैं सो गई अभागी

(ii) सुमित्रानंदन पंत

(c) तू अब तक सोई है आली, आंखों में भरे विहागरी

(iii) सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

(d) कौन तुम रूपसि कौन, व्योम से उतर रही चुपचाप

(iv) महादेवी वर्मा

 

(v) विद्यावती कोकिल

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v)

(iii)

(ii)

(i)

(B)

(iv)

(iii)

(i)

(ii)

(C)

(i)

(ii)