--> NTA UGC NET द्वारा कवि और कविता से संबंधित सुमेलन पर आधारित पूछे गए प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 24 - हिंदी सारंग
Home प्रश्नपत्र / यूजीसी नेट / hindi quiz / net / nta ugc / Question Paper

NTA UGC NET द्वारा कवि और कविता से संबंधित सुमेलन पर आधारित पूछे गए प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 24

यूजीसी नेट हिंदी old question paper

दोस्तों यहाँ पर यूजीसी नेट जेआरएफ हिंदी की परीक्षा के सुमेलित करने वाले प्रश्नों को दिया जा रहा है। हिंदी क्विज का यह 24वां भाग है। यहाँ पर 2004 से लेकर 2019 तक के ugc net हिंदी के प्रश्नपत्रों में कवि और कविता के सुमेलन संबंधित पूछे गए प्रश्नों को एक साथ दिया जा रहा है। ठीक उसी तरह जैसे आदिकाल, भक्तिकाल, रीतिकाल और आधुनिक काल के सुमेलित वाले प्रश्न दिए गए हैं।

ugc-net-hindi-old-question-paper-quiz-24
UGC NET Hindi Quiz- 24

इन प्रश्नों को हल करने के बाद आप पाएंगे कि nat ugc net hindi में आदिकाल से आधुनिक काल की कई कवि और कविताओं को बार-बार सुमेलित करने के लिए दे दिया जाता है। इन प्रश्नों का दो-तीन बार यदि आप अभ्यास कर लेते हैं तो कविता से संबंधी सुमेलन आधारित प्रश्न गलत नहीं होंगे, ज्यादा संभावना यही है की इन्हीं प्रश्नों में से ही दुबारा पूछ लिया जाए। ugc के अलावा अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं- uphesc, rpsc, hpsc, dsssb, tgt, pgt आदि परीक्षाओं के प्रतियोगियों के लिए भी ये प्रश्न काफी महत्वपूर्ण हैं।

यूजीसी नेट द्वारा 2004 से अब तक पूछे गए प्रश्न

38. निम्नलिखित काव्यपंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए। (जून, 2006, II)

सूची- I

सूची- II

(a) धूप सा तन दीप सी मै

(i) निराला

(b) मधुपगुनगुना कर कह जाता

(ii) पंत

(c) स्नेह निर्झर बह गया है

(iii) नरेंद्र शर्मा

(d) हाय! मृत्यु का ऐसा अमर अपार्थिव पूजन

(iv) महादेवी वर्मा

 

(v) प्रसाद

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(i)

(iii)

(iv)

(B)

(iv)

(v)

(i)

(ii)

(C)

(v)

(iii)

(iv)

(ii)

(D)

(v)

(ii)

(i)

(iii)

उत्तर- (B)

66. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 20012, III)

सूची- I

सूची- II

(a) शलभ मैं शापमय वर हूँ

(i) सुमित्रानंदन पंत

(b) दुःख ही जीवन की कथा रही

(ii) बच्चन

(c) वियोगी होगा पहला कवि

(iii) निराला

(d) जो बीत गयी सो बात गयी

(iv) महादेवी वर्मा

 

(v) जयशंकर प्रसाद

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(i)

(iv)

(iii)

(B)

(iii)

(iv)

(ii)

(i)

(C)

(iv)

(iii)

(i)

(ii)

(D)

(i)

(iv)

(iii)

(ii)

उत्तर- (C)

74. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचयिता कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (नवम्बर, 2017, III)

सूची- I

सूची- II

(a) तू है गगन विस्तीर्ण तो मैं एक तारा क्षुद्र हूँ।

(i) मैथिलीशरण गुप्त

(b) निकल रही है उर से आह, ताक रहे सब तेरी राह।

(ii) गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’

(c) जल उठा स्नेह दीपक-सा, नवनीत हृदय था मेरा।

अब शेष धूमरेखा से, चित्रित कर रहा अंधेरा।।

(iii) जयशंकर प्रसाद

(d) अरुण अधरों की पल्‍लव प्रात, मोतियों सा हिलता हिम हास।

(iv) सुमित्रानंदन पंत

 

(v) महादेवी वर्मा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(i)

(iii)

(iv)

(B)

(i)

(iii)

(ii)

(v)

(C)

(iii)

(iv)

(v)

(i)

(D)

(v)

(i)

(ii)

(iii)

उत्तर- (A)

75. निम्नलिखित पंक्तियों को उनकी कृतियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2013, III)

सूची- I

सूची- II

(a) अब अभिव्यक्ति के

सारे खतरे, उठाने ही होंगे।

(i) कामायनी

(b) हँस पड़ा गगन, वह शून्य लोक

(ii) अँधेरे में

(c) स्थिर समर्पण है हमारा

(iii) कुकुरमुत्ता

(d) आप अपने से उगा मैं

(iv) नदी के द्वीप

 

(v) असाध्य वीणा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v)

(ii)

(iii)

(i)

(B)

(iii)

(iv)

(i)

(ii)

(C)

(ii)

(i)

(iv)

(iii)

(D)

(iv)

(iii)

(ii)

(v)

उत्तर- (C)

71. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2015, III)

सूची- I

सूची- II

(a) वैश्यो! सुनो व्यापार सारा मिट चुका है देश का

सब धन विदेशी हर रहे हैं पार है क्या क्लेश का?

(i) जयशंकर प्रसाद

(b) तुम भूल गये पुरुषत्व मोह में, कुछ सत्ता है नारी की।

समरसता है संबंध बनी अधिकार और अधिकारी की॥

(ii) पंत

(c) प्रथम रश्मि का आना रेगिणि! तू ने कैसे पहचाना?

कहाँ-कहाँ हे बाल विहंगिनि? पाया तू ने यह गाना?

(iii) महादेवी वर्मा

(d) क्‍या अमरों का लोक मिलेगा तेरी करुणा का उपहार?

रहने दो हे देव! अरे यह मेरा मिटने का अधिकार!

(iv) निराला

 

(v) मैथिलीशरण गुप्त

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iii)

(iv)

(i)

(v)

(B)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(C)

(iii)

(v)

(i)

(ii)

(D)

(v)

(i)

(ii)

(iii)

उत्तर- (D)

34. निम्नलिखित काव्यपंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2016, II)

सूची- I

सूची- II

(a) जीवन तेरा क्षुद्र अंश है व्यक्त नील घन माला में

सौदामिनी संधि-सा सुंदर क्षणभर रहा उजाला में।

(i) सुमित्रानंदन पंत

(b) जो सोए स्वप्नों के तम में वे जागेंगे यह सत्य बात

जो देख चुके जीवन निशीथ वे देखेंगे जीवन प्रभात।

(ii) निराला

(c) बाँधो न नाव इस ठाँव बंधु

पूछेगा सारा गाँव बंधु।

(iii) मह़ादेवी वर्मा

(d) पंथ होने दो अपरिचित

प्राण रहने दो अकेला।

(iv) जयशंकर प्रसाद

 

(v) भगवतीचरण वर्मा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(i)

(ii)

(iii)

(B)

(iii)

(iv)

(i)

(ii)

(C)

(i)

(ii)

(iv)

(iii)

(D)

(iv)

(iii)

(v)

(i)

उत्तर-  (A)

36. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (नवम्बर, 2017, II)

सूची- I

सूची- II

(a) प्रिय स्वतंत्र रव

अमृत मंत्र नव

भारत में भर दे।

(i) जयशंकर प्रसाद

(b) इस पार प्रिये मधु है तुम हो

उस पार न जाने क्या होगा।

(ii) सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

(c) अरे कहीं देखा है तुमने

मुझे प्यार करने वाले को

(iii) हरिवंशराय बच्चन

(d) यह मंदिर का दीप

इसे नीरव जलने दो।

(iv) महादेवी वर्मा

 

(v) सुमित्रानंदन पंत

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(B)

(iii)

(iv)

(v)

(i)

(C)

(ii)

(iii)

(i)

(iv)

(D)

(iv)

(i)

(ii)

(iii)

उत्तर- (C)

84. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2018, II)

सूची- I

सूची- II

(a) दुःख ही जीवन की कथा रही,

क्या कहूँ आज, जो नहीं कहीं।

(i) अज्ञेय

(b) मैं दिन को ढूँढ रही हूँ

जुगुनू की उजियाली में;

मन माँग रहा है मेरा

सिकता हीरक-प्याली में!

(ii) पंत

(c) रोज-सबेरे मैं थोड़ा-सा अतीत में जी लेता हूँ-

क्योंकि रोज शाम को मैं थोड़ा-सा भविष्य में मर जाता हूँ।

(iii) महादेवी

(d) बिखरी अलकें ज्यों तर्क-जाल

वह विश्व मुकुट-सा उज्ज्वलतम शशिखंड-

सदृश्य था स्पष्ट भाल।

(iv) निराला

 

(v) प्रसाद

 कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(iii)

(i)

(v)

(B)

(v)

(i)

(ii)

(iii)

(C)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(D)

(ii)

(iv)

(v)

(i)

उत्तर- (A)

73. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2013, III)

सूची- I

सूची- II

(a) कितना अकेला हूँ मैं, इस समाज में

(i) मुक्तिबोध

(b) पिस गया वह भीतरी औ

बाहरी दो कठिन पाटों बीच

(ii) अज्ञेय

(c) वे पत्तर जोड़ रहे हैं,

तुम सपने जोड़ रहे हो।

(iii) नागार्जुन

(d) मैं ही बसंत का अग्रदूत

(iv) रघुवीर सहाय

 

(v) निराला

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(i)

(iii)

(v)

(B)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(C)

(ii)

(iii)

(iv)

(v)

(D)

(v)

(iv)

(iii)

(ii)

उत्तर- (A)

40. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2014, II)

सूची- I

सूची- II

(a) जो बीत गयी सो बात गयी

(i) मुक्तिबोध

(b) मैं तो डूब गया था स्वयं शून्य में

(ii) दिनकर

(c) दो पाटों के बीच पिस गया

(iii) बच्चन

(d) रूप की आराधना का मार्ग

आलिंगन नहीं तो और क्या है?

(iv) अज्ञेय

 

(v) नरेंद्र शर्मा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v)

(i)

(ii)

(iv)

(B)

(iv)

(ii)

(iii)

(v)

(C)

(iii)

(v)

(iv)

(ii)

(D)

(iii)

(iv)

(i)

(ii)

उत्तर- (D)

35. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2005, II)

सूची- I

सूची- II

(a) ये उपमान मैले हो गये हैं

(i) अज्ञेय

(b) हम राज्य लिये मरते हैं

(ii) बिहारी

(c) वतरस लालच लाल की

(iii) मैथिलीशरण गुप्त

(d) भक्तिहिं ज्ञानहिं नहिं कछु भेदा

(iv) तुलसीदास

 

(v) पंत

 कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v)

(i)

(ii)

(iii)

(B)

(i)

(iii)

(ii)

(iv)

(C)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(D)

(iv)

(v)

(i)

(ii)

उत्तर- (B)

31. इन काव्य पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2007, II)

सूची- I

सूची- II

(a) पेट पीठ दोनों मिलकर हैं एक

(i) दिनकर

(b) सांप तुम सभ्य हुए नहीं

(ii) धूमिल

(c) एक आदमी रोटी बेलता है

(iii) निराला

(d) श्वानों को मिलता दूध भात

भूखे बालक अकुलाते हैं

(iv) नागार्जुन

 

(v) अज्ञेय

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(v)

(i)

(ii)

(B)

(v)

(i)

(iv)

(iii)

(C)

(iii)

(v)

(ii)

(i)

(D)

(i)

(ii)

(v)

(iii)

उत्तर- (C)

44. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके लेखकों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2007, II)

सूची- I

सूची- II

(a) अब अभिव्यक्ति के सारे खतरे उठाने ही होंगे

(i) अज्ञेय

(b) सब ने भी अलग अलग संगीत सुना

(ii) महादेवी

(c) नयन में जिसके जलद वह तृषित चातक हूं

(iii) निराला

(d) अशनि-पात से शायित उन्नत शत-शत वीर

(iv) मुक्तिबोध

 

(v) कुंवर नारायण

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(iii)

(ii)

(v)

(B)

(iv)

(i)

(v)

(ii)

(C)

(iv)

(i)

(ii)

(iii)

(D)

(iii)

(v)

(iv)

(i)

उत्तर- (C)

43. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके सही कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2008, II)

सूची- I

सूची- II

(a) द्रुत झरो जगत के जीर्ण पत्र

(i) धूमिल

(b) यह तीसरा आदमी कौन है?

मेरे देश की संसद मौन है।

(ii) दिनकर

(c) तोड़ने ही होंगे मठ और गढ़ सब

(iii) पंत

(d) आ गये प्रियवंद! केशकम्बली! गुफा गेह

(iv) अज्ञेय

 

(v) मुक्तिबोध

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(v)

(i)

(iv)

(B)

(iii)

(i)

(iv)

(ii)

(C)

(v)

(ii)

(iii)

(i)

(D)

(iii)

(i)

(v)

(iv)

उत्तर- (D)

35. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके लेखकों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2008, II)

सूची- I

सूची- II

(a) अरूण यह मधुमय देश हमारा

(i) अज्ञेय

(b) हम नदी के द्वीप हैं

(ii) धूमिल

(c) दुखों के दागों को तमगों सा पहना

(iii) जयशंकर प्रसाद

(d) मेरे लिए हर आदमी एक जोड़ी जूता है

(iv) मुक्तिबोध

 

(v) निराला

 कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iv)

(iii)

(i)

(v)

(B)

(i)

(iv)

(ii)

(iii)

(C)

(iii)

(i)

(iv)

(ii)

(D)

(v)

(ii)

(iii)

(iv)

उत्तर- (C)

37. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2009, II)

सूची- I

सूची- II

(a) राष्ट्रगीत में भला कौन यह भारत भाग्य विधाता है

(i) गिरिजा कुमार माथुर

(b) कया करूं जो शंभुधनु टूटा तुम्हारा

(ii) सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

(c) अब मैं कवि नहीं रहा, काला झंडा हूँ

(iii) रघुवीर सहाय

(d) साधो आज मेरे सत की परीक्षा है

(iv) विजयदेव नारायण साही

 

(v) प्रभाकर माचवे

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(v)

(iv)

(iii)

(B)

(iii)

(i)

(ii)

(iv)

(C)

(v)

(iii)

(i)

(ii)

(D)

(iv)

(i)

(v)

(iii)

उत्तर- (B)

42. निम्नलिखित काव्यपंक्तियों और उनके कवियों को सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2009, II)

सूची- I

सूची- II

(a) रवि हुआ अस्त, ज्योति के पत्र पर लिखा अमर

(i) सुमित्रानंदन पंत

(b) शैया सैकत पर दुग्धधवल तन्वंगी गंगा ग्रीष्म विकल

(ii) मैथिलीशरण गुप्त

(c) सखि, वे मुझसे कहकर जाते

(iii) निराला

(d) शशि मुख पर घूंघट डाले

(iv) नागार्जुन

 

(v) जयशंकर प्रसाद

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(iv)

(v)

(B)

(ii)

(i)

(iii)

(iv)

(C)

(iv)

(iii)

(ii)

(i)

(D)

(iii)

(i)

(ii)

(v)

उत्तर- (D)

40. निम्नलिखित अंशों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2010, II)

सूची- I

सूची- II

(a) जो घनीभूत पीड़ा थी

(i) अज्ञेय

(b) हेर प्यारे को सेज पास,

नम्रमुख हँसी-खिली

(ii) प्रसाद

(c) हम नहीं कहते कि हम को छोड़कर स्रोतस्विनी बह जाय

(iii) निराला

(d) जी हाँ हजूर,

मैं गीत बेचता हूँ

(iv) बच्चन

 

(v) भवानीप्रसाद मिश्र

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(ii)

(v)

(iv)

(B)

(v)

(iii)

(ii)

(i)

(C)

(iv)

(ii)

(i)

(iii)

(D)

(ii)

(iii)

(i)

(v)

उत्तर- (D)

36. पंक्तियों के साथ कवियों का सुमेलन कीजिए: (जून, 2011, II)

सूची- I

सूची- II

(a) जिधर अन्याय, है उधर शक्ति

(i) नागार्जुन

(b) नारी तुम केवल श्रद्धा हो

(ii) दिनकर

(c) बहुत दिनों तक चक्की रोई, चूल्हा रहा उदास

(iii) निराला

(d) सिंहासन खाली करो कि जनता आती है

(iv) पंत

 

(v) प्रसाद

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v) 

(iv) 

(iii) 

(i)

(B)

(i) 

(ii) 

(iii) 

(iv)

(C)

(iii) 

(v) 

(i) 

(ii)

(D)

(iv) 

(v) 

(ii) 

(iii)

उत्तर- (C)

30. निम्नलिखित पंक्तियों के साथ कवियों का सुमेलन कीजिए: (दिसम्बर, 2012, II)

सूची- I

सूची- II

(a) घुन खाये शहतीरों पर

(i) केदारनाथ अग्रवाल

(b) एक बीते के बराबर

(ii) नागार्जुन

(c) किंतु हम हैं द्वीप

(iii) धूमिल

(d) भूख से रिरियाती हुई

(iv) अज्ञेय

 

(v) लीलाधर जगूड़ी

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(iii)

(iv)

(v)

(B)

(v)

(iv)

(iii)

(i)

(C)

(i)

(ii)

(iii)

(v)

(D)

(ii)

(i)

(iv)

(iii)

उत्तर- (D)

37. निम्नलिखित कवियों को उनकी पंक्तियों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2013, II)

सूची- I

सूची- II

(a) अज्ञेय

(i) बात हम नहीं, भेद खोलेगी बात ही

(b) निराला

(ii) मुक्त करो नारी को मानव

(c) पंत

(iii) रूपों में एक अरूप सदा खिलता है।

(d) शमशेर बहादुर सिंह

(iv) बाँधो न नाव इस ठाँव बंधु

 

(v) व्यक्ति का है धर्म तप, करुणा, क्षमा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(iii)

(iv)

(ii)

(i)

(B)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(C)

(ii)

(iii)

(i)

(v)

(D)

(v)

(iv)

(iii)

(ii)

उत्तर- (A)

75. निम्नलिखित काव्य पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2014, III)

सूची- I

सूची- II

(a) विषम शिला संकुला पर्वतोभूता गंगा

शशितारकहारा अभिद्रुता अतिशय पूता

(i) त्रिलोचन

(b) अर्ध विवृत जघनों पर

तरुण सत्य के सिर धर

लेटी थी वह दामिनी-सी

रुचि गौर कलेवर

(ii) सुमित्रानंदन पंत

(c) तुम मुझे प्रेम करो, जैसे

मछलियाँ लहरों से करती हैं

(iii) कुँवर नारायण

(d) अनंत विस्तार का अटूट

मौन मुझे भयभीत करता है

(iv) शमशेर बहादुर सिंह

 

(v) सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(iii)

(i)

(v)

(B)

(i)

(ii)

(iv)

(iii)

(C)

(iii)

(v)

(ii)

(iv)

(D)

(iv)

(v)

(iii)

(i)

उत्तर- (B)

37. निम्नलिखित पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2015, II)

सूची- I

सूची- II

(a) कर्म का भोग भोग का कर्म

यही जड़ का चेतन आनंद

(i) निराला

(b) होगी जय, होगी जय, हे पुरुषोत्तम नवीन!

कह महाशक्ति राम के बदन में हुई लीन।

(ii) मुक्तिबोध

(c) मौन भी अभिव्यंजना है:

जितना तुम्हारा सच है उतना ही कहो।

(iii) जयशंकर प्रसाद

(d) परम अभिव्यक्ति

लगातार घूमती है जग में

पता नहीं जाने कहाँ, जाने कहाँ वह है।

(iv) अज्ञेय

 

(v) धूमिल

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(ii)

(iii)

(iv)

(v)

(B)

(iii)

(i)

(iv)

(ii)

(C)

(i)

(iv)

(v)

(iii)

(D)

(v)

(iii)

(ii)

(i)

उत्तर- (B)

33. निम्नलिखित काव्यपंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (दिसम्बर, 2016, II)

सूची- I

सूची- II

(a) हे मेरी तुम! आओ बैठें पास-पास

हम हास और परिहास करें

(i) धूमिल

(b) और बह सुरक्षित नहीं है

जिसका नाम हत्यारों को सूची में नहीं है

(ii) नागार्जुन

(c) साम्यवाद के पथ में लीद किया करते हैं

मानवता का पोस्टर देखा लगे रेंकने

(iii) केदारनाथ अग्रवाल

(d) कर गई चाक /तिमिर का सीना

जोत की फाँक / यह तुम थीं

(iv) त्रिलोचन शास्त्री

 

(v) लक्ष्मीकांत वर्मा

कोड:

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(i)

(iii)

(ii)

(iv)

(B)

(iii)

(i)

(iv)

(ii)

(C)

(i)

(ii)

(iii)

(iv)

(D)

(iv)

(iii)

(ii)

(i)

उत्तर-  (B)

34. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों को उनके कवियों के साथ सुमेलित कीजिए: (जून, 2017, II)

सूची-1

सूची-2

(a) श्रेय नही कुछ मेरा, मैं तो डूब गया था स्वयं शून्य में

वीणा के माध्यम से अपने को मैंने, सब कुछ सौंप दिया था।   

(i) मुक्तिबोध

(b) परम अभिव्यक्ति, लगातार घूमती है जग में,

पता नहीं जाने कहाँ, जाने कहाँ, वह है

(ii) दिनकर

(c) पर एक तत्व है बीज, स्थित मन में साहस में,

स्वतंत्रता में, नूतन सृजन में

(iii) शमशेर बहादुर सिंह

(d) मैं उनका आदर्श जो व्यथा न खोल सकेंगे

पूछेगा जग किन्तु पिता का नाम न बोल सकेंगे।

(iv) धर्मवीर भारती

 

(v) अज्ञेय

कोड :

 

(a)

(b)

(c)

(d)

(A)

(v)  

(i)   

(iv)

(ii)

(B)

(v)  

(iv)  

(iii)  

(i)

(C)

(i)  

 (ii)   

(iii)  

(iv)

(D)

(iv)