--> NTA UGC NET द्वारा भारतीय काव्यशास्त्र से संबंधित पूछे गए प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 58 - हिंदी सारंग
Home प्रश्नपत्र / यूजीसी नेट / hindi quiz / net / nta ugc / Question Paper

NTA UGC NET द्वारा भारतीय काव्यशास्त्र से संबंधित पूछे गए प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 58

 यूजीसी नेट हिंदी old question paper

दोस्तों यहाँ पर यूजीसी नेट जेआरएफ हिंदी की परीक्षा के प्रश्नों को दिया जा रहा है। हिंदी क्विज का यह 58वां भाग है। यहाँ पर जून 2015 से लेकर 2019 तक के ugc net हिंदी के प्रश्नपत्रों में भारतीय काव्यशास्त्र से संबंधित पूछे गए प्रश्नों को एक साथ दिया जा रहा है। ठीक उसी तरह जैसे भारतीय काव्यशास्त्र का क्विज 57 दिया गया है।

ugc-net-hindi-old-question-paper-quiz-58
UGC NET Hindi Quiz- 58

इन प्रश्नों को हल करने के बाद आप पाएंगे कि nat ugc net hindi में भारतीय काव्यशास्त्र से कुछ खास आचार्यों और उनके ग्रंथों से अधिक प्रश्न पूछा जाता है। इन प्रश्नों का दो-तीन बार यदि आप अभ्यास कर लेते हैं तो भारतीय काव्यशास्त्र से संबंधित प्रश्न गलत नहीं होंगे, ज्यादा संभावना है की इन्हीं प्रश्नों में से ही कोई दुबारा पूछ लिया जाए। ugc के अलावा दूसरी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए भी ये प्रश्न-अभ्यास महत्वपूर्ण हैं।

यूजीसी नेट द्वारा 2015 से अब तक पूछे गए प्रश्न

1. रस-सूत्र की व्याख्या करते हुए अभिव्यक्तिवादकी स्थापना किस आचार्य ने की? (जून, 2015, II)

(A) भट्टनायक

(B) श्री शंकुक

(C) भट्टलोल्लट

(D) अभिनव गुप्त ✅


2. ध्वनि सिद्धान्त के आचार्य हैं: (जून, 2015, III)

(A) आनंदवर्धन 

(B) वामन

(C) मम्मट

(D) विश्वनाथ


3. भारतीय काव्य शास्त्र में रसगत दोषों की संख्या कितनी मानी गयी है? (जून, 2015, III)

(A) 5

(B) 10 

(C) 25

(D) 20


4. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन आचार्य विश्वनाथ का नहीं है? (दिसम्बर, 2015, III)

(A) रस अखण्ड है

(B) रस स्वप्रकाश है

(C) रस वेद्यान्तरस्पर्श शून्य है

(D) रस अपने आकार से भिन्न रूप में आस्वादित किया जाता है 


5. ‘ध्वन्यालोक’ किस शताब्दी का ग्रन्थ है? (दिसम्बर, 2015, III)

(A) सातवीं शताब्दी

(B) आठवीं शताब्दी

(C) नौवीं शताब्दी 

(D) ग्यारहवीं शताब्दी


6. भरत मुनि के रस सूत्र के व्याख्याता भट्टनायक के सिद्धांत का नाम हैं: (जून, 2016, II)

(A) अनुमितिवाद

(B) उत्पत्तिवाद

(C) भुक्तिवाद 

(D) अभिव्यक्तिवाद


7. वक्रोक्ति सिद्धांत के प्रवर्तक आचार्य हैं: (जून, 2016, II)

(A) कुंतक 

(B) विश्वनाथ

(C) भामह

(D) आनंदवर्द्धन


8. ‘वाक्य रसात्मकं काव्यम

-किसकी उक्ति है? (दिसम्बर, 2016, II)

(A) रुद्रट

(B) विश्वनाथ 

(C) वामन

(D) कुंतक


9. ‘ध्वन्यालोक’ के रचयिता हैं: (दिसम्बर, 2016, II)

(A) आनंदवर्द्धन 

(B) भामह

(C) दण्डी

(D) उद्भट


10. ‘प्रतिभा’ का संबंध किससे है? (जून, 2016, III)

(A) काव्य हेतु 

(B) काव्य-स्वरूप

(C) काव्य प्रयोजन

(D) काव्य लक्षण


11. ‘काव्यालंकार सारसंग्रह’ किसकी रचना है? (दिसम्बर, 2016, III)

(A) उद्भट 

(B) दण्डी

(C) रुद्रट

(D) आनंदवर्धन


12. निम्नलिखित में से कौन अलंकारवादी नहीं है? (दिसम्बर, 2016, III)

(A) भामह

(B) दण्डी

(C) उद्भट

(D) कुंतक 


13. रसनिष्पत्ति के सन्दर्भ में उत्पत्तिवाद का सिद्धान्त किसका है? (दिसम्बर, 2016, III)

(A) भटलोल्लट 

(B) भट्ट शंकुक

(C) भट्ट नायक

(D) अभिनव गुप्त


14. अर्थोपक्षेपक के कितने प्रकार होते हैं: (जून, 2017, II)

(A) पाँच 

(B) छह

(C) सात

(D) आठ


15. “त्रितयमिदं व्याप्रियते शक्तिर्व्युत्पत्तिरभ्यास:”- यह कथन किस आचार्य का है? (नवंबर, 2017, II)

(A) भामह

(B) रुद्रट 

(C) मम्मट

(D) जयदेव


16. निम्नलिखित में से कौन-सा वक्रोक्ति का भेद नहीं है? (नवंबर, 2017, II)

(A) उक्त विन्यास वक्रता 

(B) वर्ण विन्यास वक्रता

(C) पद पूर्वार्ध वक्रता

(D) प्रकरण वक्रता


17. ‘काव्यशोभाया: कर्तारो धर्म: गुणा:।’

यह किस आचार्य की उक्ति है? (जून, 2017, III)

(A) मम्मट   

(B) वामन 

(C) आनंदवर्द्धन

(D) विश्वनाथ


18. जहाँ समानार्थक विशेषणों से प्रस्तुत के वर्णन द्वारा अप्रस्तुत का बोध कराया जाय, वहाँ कौन-सा अलंकार होता है? (जून, 2017, III)

(A) समासोक्ति 

(B) सहोक्ति

(C) विनोक्ति

(D) व्यतिरेक


19. निम्नलिखित में से किस आचार्य ने अलंकार को काव्य की आत्मा मानकर रस का महत्त्व गौण कर दिया? (जून, 2017, III)

(A) भामह 

(B) वामन

(C) विश्वनाथ

(D) आनंदवर्द्धन


20. जब वक्रोक्ति वक्ता की कंठ ध्वनि पर आश्रित होती है तब उसे क्‍या कहा जाता है? (जून, 2017, III)

(A) सभंग श्लेष वक्रोक्ति

(B) अभंग श्लेष वक्रोक्ति

(C) काकुवक्रोक्ति 

(D) प्रहेलिका


21. इनमें से कौन-सा ग्रंथ आचार्य भामह का है? (जून, 2017, III)

(A) काव्यालंकार 

(B) काव्यादर्श

(C) ध्वन्यालोक

(D) साहित्यदर्पण


22. रससूत्र ‘विभावानुभावव्यभिचारिसंयोगाद्रसनिष्पत्ति:’ किस ग्रंथ में आया है? (नवम्बर, 2017, III)

(A) साहित्यदर्पण

(B) नाट्यशास्त्र 

(C) रसगंगाधर

(D) दशरूपक


23. निम्नलिखित में से कौन-सा रस का अवयव नहीं हैं? (नवम्बर, 2017, III)

(A) भाव 

(B) विभाव

(C) अनुभाव

(D) संचारीभाव


24. निम्नलिखित में से कौन-सा काव्य गुण नहीं है? (नवम्बर, 2017, III)

(A) श्लेष

(B) माधुर्य

(C) शक्ति 

(D) समाधि


25. आचार्य भरत के रससूत्र के व्याख्याता शंकुक के सिद्धान्त का नाम है: (जून, 2018, II)

(A) अनुमितिवाद 

(B) भोगवाद

(C) अभिव्यक्तिवाद

(D) आरोपवाद


26. आचार्य भरत ने काव्य दोषों की संख्या कितनी मानी है? (जून, 2019, II)

(A) 8

(B) 9

(C) 5

(D) 10 


27. रस की प्रस्तुति के लिए ‘तद्रूपतानुसंधान’ शब्द का प्रयोग किस आचार्य ने किया? (जून, 2019, II)

(A) अभिनव गुप्त

(B) शंकुक

(C) भट्ट लोल्लट 

(D) भट्ट नायक


28. आनंदवर्धन ने किसे ध्वनि की आत्मा माना है? (जून, 2019, II)

(A) वस्तु ध्वनि

(B) अलंकार ध्वनि

(C) रस ध्वनि 

(D) गुणौचित्य


29. शक्ति की जिस शक्ति से उसके संकेतित का अर्थ का बोध हो, वहां कौन-सी शब्द शक्ति होती है? (दिसम्बर, 2019, II)

(A) अभिधा 

(B) लक्षणा

(C) व्यंजना  

(D) शुद्धा लक्षणा


30. कवि के भार को बहुत बडा बाताते हुए किस आचार्य ने कहा है कि ऐसा न कोई शब्द है, न अर्थ, न न्याय और न कला जो काव्य का अंग न बन सके? (दिसम्बर, 2019, II)

(A) राजशेखर

(B) भामह 

(C) दंडी

(D) आनंदवर्द्धन


31. आनंदवर्द्धन ने किस काव्य को ध्वनि कहा है? (दिसम्बर, 2019, II)

(A) जिसमें शब्द और अर्थ दोनों अपना महत्व बनाए रखकर अर्थ-प्रतिपादन करें।

(B) जिसमें शब्द की सत्ता गौण और अर्थ की सत्ता प्रमुख हो।

(C) जहाँ शब्द और अर्थ दोनों अपने अर्थ का उत्सर्जन कर व्यंग्यार्थ को अभिव्यक्त करें।

(D) जहाँ अर्थ की सत्ता गौण और शब्द की सत्ता प्रधान हो।


32. किस आचार्य ने ‘शक्ति, लोक व्यवहारादि से प्राप्त निपुणता तथा काव्यज्ञों की शिक्षा प्राप्त कर किया गया अभ्यास’ को काव्य का हेतु माना है? (दिसम्बर, 2019, II)

(A) अभिनवगुप्त     

(B) विश्वनाथ

(C) राजशेखर

(D) मम्मट 

Quiz 1234567891011121314151617181920212223242526, 27282930313233343536373839404142434445464748495051525354555657, 58, 5960616263646566676869707172737475767778798081

यह भी पढ़ें :

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

hindisarang.com पर आपका स्वागत है! जल्द से जल्द आपका जबाब देने की कोशिश रहेगी।

to Top