--> NTA UGC NET द्वारा हिंदी काव्य से संबंधित कूट वाले प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 67 - हिंदी सारंग
Home प्रश्नपत्र / यूजीसी नेट / hindi quiz / net / nta ugc / Question Paper

NTA UGC NET द्वारा हिंदी काव्य से संबंधित कूट वाले प्रश्न | UGC NET Hindi Quiz- 67

यूजीसी नेट हिंदी old question paper

दोस्तों यहाँ पर यूजीसी नेट जेआरएफ हिंदी की परीक्षा के प्रश्नों को दिया जा रहा है। हिंदी क्विज का यह 67वां भाग है। यहाँ पर 2004 से लेकर 2019 तक के ugc net हिंदी के प्रश्नपत्रों में हिंदी काव्य पंक्तियों से संबंधित कूट वाले प्रश्नों का दूसरा भाग दिया जा रहा है। ठीक उसी तरह जैसे कूट संबंधित क्विज 66 दिया गया है।

ugc-net-hindi-old-question-paper-quiz-67
UGC NET Hindi Quiz- 67

इन प्रश्नों को हल करने के बाद आप पाएंगे कि nat ugc net hindi में हिंदी काव्य से संबंधित कूट वाले प्रश्नों से जरूर 5-6 प्रश्न पूछा जाता है। कूट वाले प्रश्न इधर ugc में अधिक पूछे जाने लगे हैं, ज्यादा संभावना है की इन्हीं प्रश्नों में से या इनसे मिलता-जुलता प्रश्न पूछ लिया जाए। ugc के अलावा दूसरी प्रतियोगी परीक्षाओं में अभी कूट वाले प्रश्न पूछे नहीं जा रहे हैं लेकिन वहाँ भी पूछा जा सकता है। इसलिए उन्हें भी इन प्रश्नों का अभ्यास कर लेना चाहिए।

यूजीसी नेट द्वारा 2004 से अब तक पूछे गए प्रश्न

1. ‘घोर अँधारे चंदमणि जिमि उज्जोअ करेइ।

परम महासुह एखु कणे दुरिअ अशेष हरेइ॥’

-उपर्युक्त दोहे में ‘महासुह’ का संबंध किस-किससे है? (जून, 2018, II)

(a) महासुख ‘महासुह’ का तत्सम रूप है।

(b) महासुख वज्रयानियों का पारिभाषिक शब्द है।

(c) प्रज्ञा और योग से महासुख की दशा संभव है।

(d) महासुख निर्वाण-प्राप्ति में बाधक है।

कोड:

(A) (a) और (d) सही

(B) (b) और (d) सही

(C) (a), (b) और (c) सही ✅

(D) (a), (b) और (d) सही


2. ‘गोरख जगायो जोग,

भगति भगायो लोग।’

-इन पंक्तियों में तुलसी का अभिप्राय है: (जून, 2018, II)

(a) नाथ पंथ का हठयोग मार्ग हृदयपक्ष शून्य है।

(b) जनता हठयोग को पसंद करती थी।

(c) योगियों की रहस्यभरी बानियों से जनता की भक्ति-भावना दब गई थी।

(d) जनता भक्त मार्ग से विमुख हो गई थी।

कोड:

(A) (a), (b) और (d) सही   

(B) (b), (c) और (d) सही

(C) (a) और (d) सही

(D) (a) और (c) सही 


3. ‘ना नगरी काया बिधि कीन्हा। लेइ खोजा पावा, तेइ चीन्हा।

पै सुठि अगम पंथ बड़ बाँका। तस मारग जस सुई क नाका।

बाँक चढ़ाव, सात खंड ऊँचा। चारि बसेरे जाइ पहुँचा।’

-शुक्लजी के अनुसार उक्त पंक्तियों में प्रयुक्त ‘चारि बसेरे’ से अभिप्राय है: (जून, 2018, II)

(a) चार धर्मशालाएं।

(b) प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि नामक योग के अंग।

(c) शरीअत, तरीकत, मारिफत और हकीकत नामक चार सोपान।

(d) धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष नामक पुरुषार्थ।

कोड

(A) (a) और (d) सही

(B) (b) और (c) सही 

(C) (b) और (d) सही

(D) (c) और (d) सही


4. जाके कुटुंब सब ढोर ढोवंत

फिरहिं अज हूँ बानारसी आसपासा।

आचार सहित बिप्र करहिं डंडउति

तिन तने रविदास दासानुदासा॥

-इन काव्य पंक्तियों में किन भावों की अभिव्यंजना हुई है? (जून, 2018, II)

(a) लोक-व्यवहार

(b) वर्ण-व्यवस्था

(c) विनय

(d) गर्वोक्ति

कोड:

(A) (a) और (d) सही

(B) (a) (b) और (c) सही 

(C) (b), (c) और (d) सही   

(D) (b) और (d) सही


5. झूठो है, झूठो है, झूठो सदा जगु, संत कहंत जे अंतु लहा है।

ताको सहै सठ! संकट कोटिक, काढ़त दंत, करंत हहा है।

जानपनी को गुमान बड़ो, तुलसी के बिचार गँवार महा है।

जानकी जीवनु जान न जान्यो तौ जान कहावत जान्यो कहा है॥

-तीसरी पंक्ति में तुलसीदास कहना चाहते हैं कि: (जून, 2018, II)

(a) उन्हें अपने ज्ञानीपने का बहुत अभिमान है।

(b) वे स्वयं महा गँवार हैं।

(c) संसार को झूठा कहने वाले महा गाँवार हैं।

(d) जानकी के जीवन से अनभिज्ञ लोग गँवार हैं।

कोड:

(A) (c) और (d) सही

(B) (a) और (b) सही 

(C) (a) और (c) सही 

(D) (a), (c) और (d) सही


6. निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों के आशय हैं: (जून, 2018, II)

उर में माखन चोर गड़े।

अब कैसहु निकसत नहिं, ऊधो! तिरछे हवै जो अड़े।

(a) गोपी के दिल में कृष्ण बस गए हैं।

(b) वह उन्हें दिल से निकालना चाहती है, लेकिन निकलते ही नहीं।

(c) वह उन्हें दिल में बसाए रखना चाहती है।

(d) कृष्ण को दिल से निकालना गोपी के लिए असंभव है।

कोड:

(A) (a), (b) और (d) सही   

(B) (b) और (d) सही

(C) (b) और (c) सही

(D) (a) (c) और (d) सही 


7. किंसुक-पुंज से फूलि रहे सु लगी उर दौ जु वियोग तिहारे।

मातो फिरै, न घिरे अबलानि पै, जान मनोज यों डारत मारे।

हवे अभिलाषनि पात निपात कढ़े हिय-सूल उसांसनि डारे।

है पतझार बसंत दुहूँ घनआनंद एकहि बार हमारे॥

-इन पंक्तियों में भावाभिव्यंजना के कौन-कौन रूप व्यक्त हुए हैं? (जून, 2018, II)

(a) उक्त वैचित्र्य     

(b) उक्ति चमत्कार

(c) उक्त विपर्यय

(d) उक्ति सादृश्यता

कोड:

(A) (a), (b) और (d) सही

(B) (a), (b) और (c) सही 

(C) (b), (c) और (d) सही

(D) (c) और (d) सही


8. “नीलोत्पल के बीच समाए मोती से आँसू के बूँद” उक्त काव्यांश के लिए कौन से कथन सही हैं? (जून, 2018, II)

(a) इसमें अलंकार ध्वनि है।

(b) यह रस ध्वनि का उदाहरण है।

(c) इसमें अत्यंत तिरस्कृत वाच्य ध्वनि है।

(d) यह लक्षण लक्षणा पर आधारित है।

कोड:

(A) (a) और (c) सही

(B) (c) और (d) सही 

(C) (b) और (c) सही

(D) (a) और (d) सही


9. ‘तननां बुननां तज्यौ कबीर।

राम नाम लिखि लियौ सरीर॥

मुसि मुसि रोवे कबीर की माई।

ए बारिक कैसे जीवहिं खुदाई॥

-उक्त काव्य-पंक्तियों में प्रयुक्त ‘मुसि मुसि’ का भावार्थ है- (दिसम्बर, 2018, II)

(a) मन ही मन रोना

(b) सिसक सिसक कर रोना

(c) दहाड़ मारकर रोना

(d) किसी का गुण-कथन करते हुए रोना

नीचे दिए गए कूट में से सही उत्तर को चुनिए:

कूट 1

(A) (a), (c) और (d) सही

(B) (b) और (c) सही

(C) (a) और (b) सही 

(D) (b) और (d) सही


10. यंद्री का लड़बड़ा, का फूहड़ा

काछ का जती मुख का सती।

जो सत पुरूष ऊतमो कथी।

-गोरखनाथ की दृष्टि से सच्चा साधक वही है, जो (दिसम्बर, 2018, II)

(a) संयमी हो

(b) इंद्रिय दमन करने वाला हो

(c) कूट भाषा बोलने वाला हो

(d) महासुखवादी हो

नीचे दिए गए कूट में से सही उत्तर को चुनिए।

कूट:

(A) (a) और (c) सही

(B) (a) और (d) सही

(C) (c) और (d) सही

(D) (a) और (b) सही 


11. ‘स्थाम बिनोदी रे मधुअनियाँ।

अब हरि गोकुल काहे को आवहिं चाहत नौ यौवनियाँ।

सूरदास प्रभु तजी कामरी अब हरि भए चिकनियाँ।’

-‘अब हरि भए चिकनियाँ’ के द्वारा सूरदास क्या कहना चाहते हैं? (दिसम्बर, 2018, II)

(a) श्रीकृष्ण चिकने घड़े हो गये हैं

(b) श्रीकृष्ण चिकने चुपड़े हो गये हैं

(c) श्रीकृष्ण छैला हो गये है

(d) श्रीकृष्ण सुन्दर छवि वाले हो गए हैं

नीचे दिए गए कूट में से सही उत्तर को चुनिए:

कूट:

(A) (b) और (c) सही

(B) (a) और (d) सही

(C) (b) और (d) सही

(D) (c) और (d) सही 


12. ‘यों ही मेरो मेरे काम का न रह्यौ माई,

स्याम रंग ह्वै करि समान्यो स्थाम रंग मैं।

-उक्त काव्य पंक्तियों में कोई गोपी या भक्त कहना चाहते हैं- (दिसम्बर, 2018, II)

(a) श्रीकृष्ण के रंग में रंगकर मेरा रंग काला हो गया है

(b) मेरा रंग पहले से काला है इसलिए श्रीकृष्ण के रंग में मिल सका

(c) श्रीकृष्ण के रंग में रंग कर मेरा मन उन्हीं के जैसा हो गया

(d) मेरा मन श्रीकृष्ण के वश में हो गया है।

नीचे दिए गए कूट में से सही उत्तर को चुनिए:

कूटः

(A) (c) और (d) सही 

(B) (b) और (c) सही

(C) (a) और (b) सही

(D) (a)और (d)सही


13. ‘दृग उरझत टूटत कुटुम जुरत चतुर चित प्रीति।

परति गांठि दुरजन हिये दई नई यह रीति॥’

उपर्युक्त दोहे के संबंध में कौन-सा कथन सही है? (दिसम्बर, 2018, II)

(a) इसमें कार्य-कारण संबंध का स्वाभाविक चित्रण हुआ है

(b) इसमें प्रेमी-प्रेमिका के प्रेम का स्वाभाविक चित्रण हुआ है

(c) इसमें असंगति अलंकार है

(d) इसमें विभावना अलंकार है

नीचे दिए गए कूट में से सही उत्तर को चुनिए:

कूट:

(A) (a) और (b) सही

(B) (a) और (d) सही

(C) (c) और (d) सही

(D) (b) और (c) सही 


14. “तोरि मानिनी तें हियो फोरि मोहिनी मान।

प्रेमदेव की छबि ही लखि भए मियाँ रसखान।।

-आचार्य रामचंद्र शुक्ल के अनुसार उपर्युक्त दोहे से प्रमाणित होता है कि: (जून, 2019, II)

(a) रसखान किसी स्त्री पर आसक्त थे।

(b) स्त्री मानवती थी और रसखान का अनादर करती थी।

(c) रसखान स्वयं को प्रेम का मानदंड मानते थे।

(d) रसखान को भास हुआ कि जिस पर गोपियाँ मरती हैं उसी पर ध्यान लगाया जाए।

(e) रसखान मोहिनी का मान-मर्दन करना चाहते थे।

निम्नलिखित विकल्पों में से सही उत्तर चुनिए:

(A) (a), (b) और (c)

(B) (a), (b) और (d) 

(C) (b), (c) और (e)

(D) b, c, d और e


15. ‘दिवस का अवसान समीप था।

गगन था कुछ लोहित हो चला।

तरुशिखा पर थी अब राजती

कमलिनी-कुल वल्लभ की प्रभा।।’

-इन पंक्तियों का आशय है: (दिसम्बर, 2019, II)

(a) सूर्यास्त हो गया था।

(b) आसमान में लालिमा फैलने लगी थी।

(c) चिड़िया अपने नीड़ों में विश्राम कर रही थी।

(d) पेड़ों की फुंगियों पर सूरज की आखिरी किरणें विराजमान थीं।

नीचे दिए गए विकल्पों में से सही विकल्प चुनिए:

(A) (a) और (b)

(B) (b) और (d) 

(C) (b) और (c)

(D) (a) और (c)


16. ‘पीछे लागा जाइ था, लोक बद के साथि।

आगे सतगुरु मिल्या दीपक दीया हाथि।।

उक्त पंक्तियों में कबीर कहना चाहते हैं: (दिसम्बर, 2019, II)

(a) लोक और वेद का अनुसरण करने के कारण मैं परमतत्व से दूर था।

(b) लोक और वेद की रूढ़िवादिता ने परमतत्व के अभिज्ञान का मार्ग प्रशस्त किया।

(c) सद्गुरु के ज्ञान रूपी प्रकाश से मैंने परमतत्व का साक्षात्कार किया।

(d) सद्गुरु ने दीपक थमा कर संसार में भटकने के लिए छोड़ दिया।

निम्नलिखित में से सही विकल्प चुनिए:

(A) (a) और (b)

(B) (a) और (c) 

(C) (b) और (c)

(D) (b) और (d)

उत्तर- (B) (a) और (c)

 

17. ‘कीनैं हूँ कोरिक, जतन अब कहि काढ़े कौनु।

भो मन मोहन रूपु मिलि पानी मैं कौ लौनु॥’

-इस दोहे के संबंध में क्या सही है? (दिसम्बर, 2019, II)

(a) इसमें नायिका का कृष्ण के प्रति अनन्य प्रेम व्यंजित है।

(b) नायिका के मन रूपी सरोवर में कृष्ण का लावण्य पानी में नमक की तरह घुल गया है।

(c) कृष्ण की रूपाशक्ति से नायिका अपने मन को अलग करना चाहती है।

(d) ‘कोरिक’ का अर्थ है ‘कचोटना’।

निम्नलिखित में से सही विकल्प चुनिए:

(A) (b) और (c)

(B) (a) और (d)

(C) (a) और (c)

(D) (a) और (b)

उत्तर- (D) (a) और (b)

Quiz 1234567891011121314151617181920212223242526, 27282930313233343536373839404142434445464748495051525354555657585960616263646566, 67, 6869707172737475767778798081

यह भी पढ़ें :

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

hindisarang.com पर आपका स्वागत है! जल्द से जल्द आपका जबाब देने की कोशिश रहेगी।

to Top