--> DU MPhil Phd Hindi Entrance Question Paper with Answer Keys 2018 - हिंदी सारंग
Home Delhi university / DU MPhil. Phd. Hindi / entrance question paper

DU MPhil Phd Hindi Entrance Question Paper with Answer Keys 2018

Delhi university mphil phd hindi entrance question paper

यहाँ पर delhi university mphil phd hindi entrance exam (DUET) question paper- 2018 दिया जा रहा है। दिल्ली विश्वविद्यालय का एम.फिल. और पीएचडी हिंदी दोनों का एंट्रेंस टेस्ट एक ही पेपर होता है। पात्रता परीक्षा 2018 को उत्तर के साथ यहाँ आप देख और डाउनलोड कर सकते हैं। यदि आप DUET MPhil. Phd. Hindi प्रवेश प्रश्न पत्र 2018 का पीडीएफ डाउनलोड करना चाहते हैं तो पोस्ट के अंत में जाएं और Download PDF File पर क्लिक करके उसे सेव कर लें। कुल प्रश्नों की संख्या 50 है जिसमें 25 प्रश्न शोध प्रविध और 25 हिंदी साहित्य से संबंधित हैं। पीडीएफ फाइल और सभी प्रश्नों के उत्तर (Answer Keys) आधिकारिक (official) वेबसाइट से लिए गए हैं।

du-mphil-phd-hindi-entrance-exam-question-paper-2018
एम.फिल. पीएचडी हिंदी प्रवेश परीक्षा प्रश्न पत्र- 2018

जैसे की आपको पाता ही है कि डीयू एम.फिल. पीएचडी प्रवेश परीक्षा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (nta) द्वारा सभी पाठ्यक्रमों के लिए आयोजित होती है। अब delhi university nta के द्वारा ही अपना सभी entrance exam करवाता है। दिल्ली विश्वविद्यालय (du) में एम.फिल. पीएचडी हिंदी (MPhil. Phd. hindi) पाठ्यक्रम के लिए आवेदन करने वाले छात्र इस पृष्ठ से वर्ष 2018 के प्रश्न-पत्र पढ़ और डाउनलोड कर सकते हैं। प्रश्न दोनों फॉर्म में मौजूद प्रश्न मौजूद है, अपनी सुविधा के अनुसार इसे पढ़े और देखें। इससे उन्हें प्रश्नों की प्रकृति को समझने और अपनी तैयारी करने में सहायता मिलेगी। हिंदी से संबंधित दूसरी परीक्षाओं के अभ्यर्थी भी जरूर लाभान्वित होंगे।

दिल्ली विश्वविद्यालय एम.फिल. पीएचडी हिंदी प्रवेश परीक्षा प्रश्न पत्र- 2018

शोध प्रविध से संबंधित प्रश्न

1. “काव्यानुसंधान का लक्ष्य है- काव्यसत्य की शोध।” यह कथन किस विद्वान का है?

(A) डॉ. विजयेन्द्र स्नातक

(B) सावित्री सिन्हा

(C) डॉ. नगेन्द्र

(D) डॉ. उदयभानु सिंह


2. भ. ह. राजूरकर एवं राजमल बोरा द्वारा संपादित पुस्तक का शीर्षक है:

(A) अनुसंधान की प्रक्रिया

(B) शोध: तत्त्व और दृष्टि

(C) हिंदी अनुसंधान का स्वरूप

(D) अनुसंधान का स्वरूप


3. विषय-निर्वाचन के प्रसंग में किसी शोधकर्ता को विषय चुनने के पूर्व किस बात का ध्यान रखने की विशेष आवश्यकता नहीं है?

(A) विषय की उपयुक्तता

(B) रुचि और मनोवृत्ति

(C) शोधकर्ता को शारीरिक रूप से बलिष्ठ होना चाहिए

(D) अध्ययन की पृष्ठभूमि और क्षमता


4. अनुसंधान की दृष्टि से निम्नलिखित में क्या तर्क संगत नहीं है--

(A) शोध-विवेचन में पुनरक्ति अवश्य होनी चाहिए।

(B) शोध-पद्धति स्पष्ट और सुनिश्चित होनी चाहिए।

(C) शोध-प्रबंध में पाद-टिप्पणी विधिवत होनी चाहिए।

(D) शोध कार्य सुनियोजित, सुव्यवस्थित और क्रमबद्ध होना चाहिए।


5. जब किसी रचना या पांडुलिपि का प्रामाणिक पाठ उपलब्ध नहीं होता तो उसका पाठ-निर्धारण किसका उद्देश्य होता है?

(A) सांस्कृतिक अनुसंधान का

(B) साहित्यिक अनुसंधान का

(C) पाठानुसंधान का

(D) अंतरानुशासनिक अनुसंधान का


6. शोध के सोपान का कौन-सा क्रम सही है?

(A) प्राक्कल्पना, सामग्री का संकलन, विश्लेषण एवं निष्कर्ष, विषय-निर्वाचन

(B) विषय-निर्वाचन, विश्लेषण एवं निष्कर्ष, सामग्री का संकलन, प्राक्कल्पना

(C) सामग्री का संकलन, विषय-निर्वाचन, प्राक्कल्पना, विश्लेषण एवं निष्कर्ष

(D) विषय-निर्वाचन, प्राक्कल्पना, सामग्री का संकलन, विश्लेषण एवं निष्कर्ष


7. इनमें से कौन-सा कार्य शोध-प्रविधि के प्रारम्भिक चरण के अंतर्गत नहीं किया जाना चाहिए?

(A) संदर्भ-ग्रंथ-सूची तैयार करना

(B) उपसंहार-लेखन

(C) अनुसंधान के विषय की रूपरेखा तैयार करना

(D) अनुसंधान की योजना बनाना


8. शोध्र-कार्य के संदर्भ में इनमें से कौन-सा कथन गलत है?

(A) प्राक्कल्पना सिद्धांत-पूर्व स्थिति है।

(B) शोधार्थी निगमनात्मक तर्क-पद्धति का प्रयोग करते हुए, यह निर्णय करता है कि प्राक्कल्पना के समर्थन के लिए किस प्रकार की सामग्री आवश्यक है।

(C) प्राक्कल्पना सिद्धांत से आगे की स्थिति है।

(D) विषय से संबद्ध कुछ सामग्री एकत्र करने के पश्चात, शोधार्थी आगमनात्मक तर्क-पद्धति का प्रयोग करते हुए एक अस्थाई या कामचलाऊ निष्कर्ष पर पहुँचता है।


9. वस्तुपरक शोध-पद्धति का मूल सिद्धांत क्या है?

(A) शोधकर्ता मनमाने ढंग से तथ्यों को नियंत्रित करे

(B) शोधक तथ्यों का शासन करे

(C) शोधकर्ता तथ्यों की भावपरक व्याख्या करे

(D) तथ्य ही शोधक का अनुशासन करें


10. इनमें से कौन सी शैली अनुसंधान-लेखन के लिए उपयुक्त नहीं मानी जाती?

(A) व्यक्तिगत

(B) वस्तुगत

(C) व्यक्ति-निरपेक्ष

(D) तथ्यपरक


11. इनमें से किसे एक अच्छी प्राक्कल्पना का गुण नहीं माना जा सकता?

(A) वह प्राक्कल्पना अच्छी मानी जाती है जिसके संबंध में सरल और संक्षिप्त वक्तव्य संभव हो सके।

(B) एक अच्छी प्राक्कल्पना लचीली होती है।

(C) प्राक्कल्पना ऐसी हो जिसके प्रकाश में प्रस्तुत सामग्री की ठीक-ठीक व्याख्या की जा सके।

(D) एक अच्छी प्राक्कल्पना अपरीक्षणीय होती है।


12. इनमें से कौन-सा कर्तव्य-कर्म अनुसंधान के लिए आवश्यक नहीं माना जाता है?

(A) नये तथ्यों की खोज

(B) व्याख्या-विश्लेष्ण

(C) प्रभाव ग्रहण और उसकी अभिव्यक्ति

(D) मूल्यांकन अथवा निर्णय


13. शोध-कार्य में वर्गीकरण से संबंधित कौन सा कथन असत्य है?

(A) वर्गीकरण में शोधार्थी की प्राक्कल्पना उसकी सहायता करती रहती है।

(B) सामग्री-संकलन में भी ‘वर्गीकरण की बुद्धि’ प्रच्छन्न रूप से काम करती रहती है।

(C) अप्रत्यक्ष रूप से विषय-निर्वाचन स्वयं वर्गीकरण का भाग है।

(D) वर्गीकरण में हम अनेक से एक की ओर बढ़ते हैं।


14. निम्नलिखित में से ‘वर्गीकरण’ से संबंधित कौन-सा कथन गलत है?

(A) शोधार्थी प्रत्यक्ष वर्गीकरण अपने विषय को विस्तार से समझाने के लिए करता है।

(B) वर्गीकरण में अलग-अलग वर्गों का निरपेक्ष महत्व होता है, शोध-विषय के साथ उनका संबंध होना आवश्यक नहीं है।

(C) तथ्यों की मीमांसा से वर्गीकरण के आधार स्पष्ट होते हैं।

(D) अलग-अलग प्रवृत्तियों का स्वतंत्र रूप से निर्देश करने कि लिए वर्गीकरण आवश्यक है।


15. उनमें से कौन-सा कथन प्राक्कल्पना के संबंध में सही नहीं है?

(A) सभी प्रकार के शोध-कार्यों में प्राक्कल्पना की अनिवार्यता असंदिग्ध है।

(B) शोध-कार्य में प्राक्कल्पना संशोधित भी हो सकती है और पूर्णतः गलत भी साबित हो सकती है।

(C) शोध-कार्य में प्राक्कल्पना पूर्णतः या अंशतः सिद्ध भी हो सकती है।

(D) प्राक्कल्पना आवश्यक साक्ष्य-प्रमाण की प्रकृति को भी निश्चित कर सकती है।


16. प्राचीन ग्रंथों के पाठालोचन में किस समस्या का सामना शोध-कर्ता को नहीं करना पड़ता है?

(A) लिपिक में रचयिता की लिपि को ठीक-ठीक पढ़ने की योग्यता नहीं होने के कारण पाठ में आई हुई अशुद्धि।

(B) टंकण से संबंधित त्रुटियाँ।

(C) लिपिक का ग्रंथ के विषय से अपरिचित होने के कारण पाठ में आई हुई अशुद्धि।

(D) लिपिक के प्रमाद अथवा स्थानीय प्रभाव के कारण आई हुई अशुद्धि।


17. डॉ. नगेन्द्र ने अनुसंधान का प्राण-तत्व किसे माना है?

(A) ज्ञान-क्षेत्र का सीमा-विस्तार

(B) सुष्ठु प्रतिपादन-शैली

(C) अनुपलब्ध तथ्यों का अन्वेषण

(D) उपलब्ध तथ्यों का नवीन आख्यान


18. इनमें से किसे अनुसंधान का प्रमुख और आवश्यक तत्व नहीं माना जा सकता है?

(A) अनुपलब्ध तथ्यों का अन्वेषण

(B) आत्माभिव्यक्ति

(C) उपलब्ध तथ्यों का नवीन आख्यान

(D) ज्ञान-क्षेत्र का सीमा-विस्तार


19. अनुसंधान-लेखन की भाषा में किसे दोष माना जाएगा?

(A) भाषा सुबोध और प्रांजल हो

(B) परिष्कृत और शास्त्रीय होना चाहिए

(C) इसमें शब्द बाहुल्य होना चाहिए

(D) वह विचार-सम्प्रेषण और विचार-विनिमय में सक्षम हो


20. “उत्तम आलोचना अनिवार्यत: उत्तम अनुसंधान भी है और उत्तम साहित्यिक अनुसंधान अपनी चरम परिणति में आलोचना से अभिन्न हो जाता है।” यह कथन किनका है?

(A) विजयेंद्र स्नातक

(B) हजारीप्रसाद द्विवेदी

(C) डॉ. नगेन्‍द्र

(D) नंददुलारे वाजपेयी


21. तथ्यों के संग्रह और उपयोग के संबंध में शोधकर्ता का रवैया कैसा होना चाहिए?

(A) शोधकर्ता को तथ्य नहीं सिर्फ सत्य का ध्यान रखना चाहिए

(B) शोधकर्ता को अपने पूर्वाग्रह के अनुरूप तथ्यों में परिवर्तन या परिवर्धन करना चाहिए

(C) तथ्य अपने वास्तविक और शुद्ध रूप में प्रयुक्त होना चाहिए

(D) अपने पूर्व-निश्चित विचारों के अनुकूल ही तथ्यों का संग्रह किया जाना चाहिए


22. शोध-अन्वेषक में कौन-सी प्राथमिक योग्यता आवश्यक नहीं है?

(A) शीध-निर्देशक के प्रति भक्ति-भाव

(B) विचिकित्सा

(C) सत्य के प्रति रुचि एवं जिज्ञासा

(D) बौद्धिक परिपक्वता


23. अनुसंधान का मूल लक्ष्य क्या है?

(A) सत्य का अन्वेषण

(B) नये तथ्यों की खोज

(C) अनुसंधान की प्रविधि का सम्यक्‌ उपयोग

(D) अनुसंधान की प्रक्रिया का पालन


24. ‘अनुसंधानशब्द की व्युत्पत्तिमूलक व्याख्या क्या है?

(A) रचना की समालोचनात्मक व्याख्या करना

(B) नितांत नवीन खोज करना

(C) कल्पना और सर्वेक्षण से नए निष्कर्ष निकालना

(D) जो खोजा जा चुका है, उसे फिर से खोजना


25. ‘अनुसंधान की प्रक्रिया’ पुस्तक के संपादक हैं--

(A) डॉ. सावित्री सिन्हा तथा डॉ. विजयेन्द्र स्नातक

(B) डॉ. दीनदयालु गुप्त तथा डॉ. नंददुलारे वाजपेयी

(C) डॉ. सत्येंद्र तथा डॉ. माताप्रसाद गुप्त

(D) डॉ. उदयभानु सिंह तथा डॉ. हरवंशलाल शर्मा


हिंदी साहित्य से संबंधित प्रश्न

26. “हौं तौ स्याम रंग में चोराइ चित चोराचोरी

बोरत तौ बोरयो, निचोरत बनै नहीं॥”

-ये पंक्तियाँ किसकी हैं?

(A) देव

(B) ठाकुर

(C) घनानंद

(D) पद्माकर भट्ट


27. “अतः सूरसागर किसी चली आती हुई गीतकाव्य परंपरा का-चाहे वह मौखिक ही रही हो-पूर्ण विकास सा प्रतीत होता है।” इस वाक्य के लेखक हैं:

(A) हजारीप्रसाद द्विवेदी

(B) नंददुलारे वाजपेयी

(C) रामचंद्र शुक्ल

(D) नामवर सिंह


28. आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने साहित्य की दृष्टि से हिंदी का पहला उपन्यासकार किसे माना है?

(A) किशोरीलाल गोस्वामी

(B) लज्जाराम मेहता

(C) देवकीनंदन खत्री

(D) ब्रजनदन सहाय बी. ए.


29. ‘रस सिद्धांत’ के लेखक कौन हैं?

(A) बाबू गुलाब राय

(B) शांतिप्रिय द्विवेदी

(C) डॉ. नगेंद्र

(D) रामचंद्र शुक्ल


30. “स्वस्ति श्री तुलसी कुल भूषन दूषन हरन गोसाईं।

बारहिं बार प्रनाम करहूँ, अब हरहु सोक समुदाई॥”

-इन पंक्तियों की रचना किसने की है?

(A) तुलसीदास

(B) सूरदास

(C) सुंदरदास

(D) मीरांबाई


31. ‘बायोग्राफिया लिटरेरिया' के लेखक हैं:

(A) कोलरिज

(B) टी.एस. इलियट

(C) वड्सवर्थ

(D) क्रोचे


32. “प्रेमरंग-पगे जगमगे जगे जामिनी के,

जोबन की जोति जगी जोर उमगत हैं।”

-इन पंक्तियों के रचयिता कौन हैं?

(A) बिहारी

(B) घनानंद

(C) ठाकुर

(D) आलम


33. ‘भाषा और समाज’ पुस्तक के लेखक कौन हैं?

(A) रामविलास शर्मा

(B) उदयनारायण तिवारी

(C) हरदेव बाहरी

(D) चंद्रधर शर्मा गुलेरी


34. “निर्गुन कौन देस को वासी?

मधुकर हँसि समुझाय, सौंह दै बुझति साँच, न हाँसि।”

-इन पंक्तियों के रचयिता कौन हैं?

(A) सूरदास

(B) नंददास

(C) कृष्णदास

(D) तुलसीदास


35. ‘कलम का मजदूर’ के लेखक हैं:

(A) अमृत राय

(B) मदन गोपाल

(C) राहुल सांकृत्यायन

(D) शिवसागर मिश्र


36. ‘सौंदर्योपासक’ उपन्यास के रचनाकार हैं:

(A) अयोध्या सिंह उपाध्याय

(B) किशोरीलाल गोस्वामी

(C) ब्रजनंदन सहाय बी. ए.

(D) लज्जाराम मेहता


37. ‘व्योमकेश दरवेश’ किस विधा की रचना है?

(A) जीवनी

(B) उपन्यास

(C) कहानी

(D) यात्रा वृतांत


38. ‘आवां’ उपन्यास की लेखिका हैं:

(A) चित्रा मुदूगल

(B) मैत्रेयी पुष्पा

(C) अलका सरावगी

(D) गीतांजली श्री


39. “कलाकार जितना उत्कृष्ट होगा, उसमें अनुभविता (भोक्ता) और स्रष्टा का अंतर उतना ही स्पष्ट होगा"

-यह मान्यता किनकी है?

(A) क्रोचे

(B) टी.एस. इलियट

(C) लॉजाइनस

(D) वर्ड्सवर्थ


40. ‘नासिकेतोपाख्यान’ के लेखक का नाम है:

(A) जुगल किशोर

(B) सदल मिश्र

(C) सदासुखलाल

(D) लल्लू जी लाल


41. उदय प्रकाश के इन कहानी-संग्रहों का सही कालक्रम क्‍या है?

(A) मोहनदास, पाल गोमरा का स्कूटर, और अंत में प्रार्थना, पीली छतरी वाली लड़की

(B) पाल गोमरा का स्कूटर, मोहनदास, और अंत में प्रार्थना, पीली छतरी वाली लड़की

(C) पीली छतरी वाली लड़की, और अंत में प्रार्थना, मोहनदास, पाल गोमरा का स्कूटर

(D) और अंत में प्रार्थना, पाल गोमरा का स्कूटर, पीली छतरी वाली लड़की, मोहनदास


42. ‘शतरंज के खिलाड़ी’ के रचयिता हैं:

(A) कमलेश्वर

(B) प्रेमचंद

(C) सुदर्शन

(D) भगवतीचरण वर्मा


43. ‘बनारस अखबार’ के संपादक कौन थे?

(A) प्रतापनारायण मिश्र

(B) बालमुकुंद गुप्त

(C) भारतेंदु हरिश्चंद्र

(D) राजा शिवप्रसाद ‘सितारेहिंद’


44. ‘याद हो कि न याद हो’ के रचनाकार हैं:

(A) रवीन्द्र कालिया

(B) काशीनाथ सिंह

(C) अजित कुमार

(D) विजयमोहन सिंह


45. ‘ठेठ हिंदी का ठाठ’ किसकी रचना है?

(A) अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

(B) किशोरीलाल गोस्वामी

(C) लज्जाराम शर्मा

(D) गोपालराम गहमरी


46. “चोजिन के चोजी महा, मौजिन के महाराज,

हम कविराज हैँ, पै चाकर चतुर के॥”

-ये पंक्तियाँ किस कवि की हैं?

(A) देव

(B) आलम

(C) भूषण

(D) ठाकुर


47. ‘विरहवारीश’ के रचनाकार हैं;

(A) ठाकुर

(B) देव

(C) घनानंद

(D) बोधा


48. ‘काव्यनिर्णय’ के रचनाकार हैं:

(A) देव

(B) केशवदास

(C) भिखारीदास

(D) कृष्णदास


49. ‘आओ पेपे घर चलें’ की रचना किसने की है?

(A) प्रभा खेतान

(B) नासिरा शर्मा

(C) विजयमोहन सिंह

(D) दूधनाथ सिंह


50. अलंकार को ‘सौंदर्यम्‌ अलंकार:’ कहकर किसने परिभाषित किया है?

(A) उदभट

(B) वामन

(C) दण्डी

(D) भामह


Download du MPhil/Phd hindi question paper 2018

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर इस प्रश्न-पत्र की पीडीएफ फाइल डाउनलोड कर सकते हैं, वह भी उत्तर कुंजी के साथ।

Download pdf file

यह भी पढ़ें :

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

hindisarang.com पर आपका स्वागत है! जल्द से जल्द आपका जबाब देने की कोशिश रहेगी।

to Top